Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2023 · 1 min read

प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा

प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा,
भेद हमसे न कोई छुपाओ जरा।
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा॥

हम तो रहते है खोए सदा आपमें,
आप भी आंख हमसे मिलाओ ज़रा॥
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा॥

जीतकर हारना, हारकर जीतना,
उसकी आवाज से, सुमधुर गीत न।
चाहे उसमें हों लाखों बुराई मगर,
उससे अच्छा लगे कोई भी मीत ना।
उसके आने से पतझड़ भी लगता है हरा,
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा॥

उनके बिन चैन एक पल भी आए नहीं,
खोजते नैन जब वो दिखाएं नहीं।
सोचता दिल हमेशा उन्हीं की सदा,
भूल से भी जो जाता भुलाएं नहीं।
जिसने अंकुर हमें हमसे रुसवा करा,
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा॥

-✍️ निरंजन कुमार तिलक ‘अंकुर’
छतरपुर मध्यप्रदेश 9752606136

Language: Hindi
2 Likes · 166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
....एक झलक....
....एक झलक....
Naushaba Suriya
आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।
आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
देखी है हमने हस्तियां कई
देखी है हमने हस्तियां कई
KAJAL NAGAR
मा ममता का सागर
मा ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
बहारों कि बरखा
बहारों कि बरखा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राही
राही
RAKESH RAKESH
*देश भक्ति देश प्रेम*
*देश भक्ति देश प्रेम*
Harminder Kaur
*स्वतंत्रता संग्राम के तपस्वी श्री सतीश चंद्र गुप्त एडवोकेट*
*स्वतंत्रता संग्राम के तपस्वी श्री सतीश चंद्र गुप्त एडवोकेट*
Ravi Prakash
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शांतिवार्ता
शांतिवार्ता
Prakash Chandra
मां का हृदय
मां का हृदय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तुम शायद मेरे नहीं
तुम शायद मेरे नहीं
Rashmi Ranjan
2328.पूर्णिका
2328.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
★महाराणा प्रताप★
★महाराणा प्रताप★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तुम चंद्रछवि मृगनयनी हो, तुम ही तो स्वर्ग की रंभा हो,
तुम चंद्रछवि मृगनयनी हो, तुम ही तो स्वर्ग की रंभा हो,
SPK Sachin Lodhi
!! युवा मन !!
!! युवा मन !!
Akash Yadav
प्रेम एक्सप्रेस
प्रेम एक्सप्रेस
Rahul Singh
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#आध्यात्मिक_कविता
#आध्यात्मिक_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
तूझे क़ैद कर रखूं मेरा ऐसा चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं मेरा ऐसा चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
हिन्दी
हिन्दी
लक्ष्मी सिंह
" धरती का क्रोध "
Saransh Singh 'Priyam'
Loading...