Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2024 · 1 min read

प्रिय का इंतजार

शीर्षक-
प्रिय का इंतजार

कर सोलह श्रृंगार,कर रही प्रियवर तेरा इंतजार।
पूनम की है रात,आ भी जाओ, करेंगे प्रेम का इज़हार।।

चांद हुआ निराश, बादलों की गड़गड़ाहट से कांपने लगी सांस।
झील में खिले हैं आशाओं के कमल,आश है, हम रहे सदा पास – पास।।

दिल में जली है विरह की ज्वाला, मन हो रहा निराश।
प्यार है जिंदगी , क्यों हो रहे होर तुम हताश।।

है सात जन्मों का है बंधन,बिखर न जाएं जीवन, जैसे हो पत्ते ताश।
जादुई पलकों को चूम लूं, बसें है इनमें सपनें बहुत खास।।

कसमें, वादें,वफ़ा के किये ,वादें हजार, रहूंगा सदैव दिल के पास।
वादा निभाऊंगा मै , बनूंगा,ग़ज़ल गायक पंकज उदास।।

ये चूड़ियां,ये झुमके,ये बिंदिया, पायलियां गा रही है प्रेम अलाप।
चातक लगाएं है टकटकी, तुम हो अक्षत की बूंद, बुझाएं प्यास, सजन की जपें जाप।।

हृदय पुष्प न मुरझाए, ये चेहरा है क्यों है उदास।
शशि ले रहा विदाई, तुम्हें आना ही होगा प्रभास।।

विभा जैन (ओज्स)
इंदौर (मध्यप्रदेश )

Language: Hindi
16 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आईना भी तो सच
आईना भी तो सच
Dr fauzia Naseem shad
खाया रसगुल्ला बड़ा , एक जलेबा गर्म (हास्य कुंडलिया)
खाया रसगुल्ला बड़ा , एक जलेबा गर्म (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
gurudeenverma198
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मैं अपना जीवन
मैं अपना जीवन
Swami Ganganiya
निभाने वाला आपकी हर गलती माफ कर देता और छोड़ने वाला बिना गलत
निभाने वाला आपकी हर गलती माफ कर देता और छोड़ने वाला बिना गलत
Ranjeet kumar patre
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
*****श्राद्ध कर्म*****
*****श्राद्ध कर्म*****
Kavita Chouhan
"" *माँ सरस्वती* ""
सुनीलानंद महंत
"मिट्टी की महिमा"
Dr. Kishan tandon kranti
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
नववर्ष का नव उल्लास
नववर्ष का नव उल्लास
Lovi Mishra
स्वार्थी आदमी
स्वार्थी आदमी
अनिल "आदर्श"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
पूर्वार्थ
मईया के आने कि आहट
मईया के आने कि आहट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
जिस समय से हमारा मन,
जिस समय से हमारा मन,
नेताम आर सी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
Harminder Kaur
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" - "श्मशान वैराग्य"
Atul "Krishn"
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
जीवन में सही सलाहकार का होना बहुत जरूरी है
जीवन में सही सलाहकार का होना बहुत जरूरी है
Rekha khichi
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन संघर्ष
जीवन संघर्ष
Raju Gajbhiye
फितरत................एक आदत
फितरत................एक आदत
Neeraj Agarwal
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
Manisha Manjari
Loading...