Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

” प्रार्थना “

हे उमापति, सुन लो विनती
हृदय से बुलाया करते हैं

इंसान न रहना चाहे जहां
दिन रात सताया करते हैं
पल-पल टूटते अरमां जहां
उस बस्ती में हम रहते हैं
हे उमापति ………………
………………………….

हैं बली बने लाचार जहां
चुप-चाप बिताया करते हैं
मासूम से लगते चेहरे भी
तूफान मचाया करते हैं
हे उमापति ………………
………………………….

तिनका-तिनका उजड़ा है जहां
वहां न्याय की बातें करते हैं
अंधेरे हैं, पहरेदार जहां
प्रकाश न आया करते हैं
हे उमापति ………………
………………………….

नहीं चैन से सोते हैं लोग जहां
भाविष्य डराया करते हैं
अपनों की सतातीं हैं, यादें सदा
आंखों को रूलाया करते हैं
हे उमापति ………………….
……………………………..

“चुन्नू”बंदी सभी मिलकर के जहां
पुकार लगाया करते हैं
मेरी नाव फंसी मझ़धार ‘प्रभु’
बस पार लगाया करते हैं
हे उमापति ………………….
……………………………..

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता – मऊ (उ.प्र.)

58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उम्र का लिहाज
उम्र का लिहाज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फ़ितरत-ए-धूर्त
फ़ितरत-ए-धूर्त
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
विज्ञान का चमत्कार देखो,विज्ञान का चमत्कार देखो,
विज्ञान का चमत्कार देखो,विज्ञान का चमत्कार देखो,
पूर्वार्थ
* संसार में *
* संसार में *
surenderpal vaidya
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नव वर्ष
नव वर्ष
RAKESH RAKESH
आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कुछ पाने के लिए
कुछ पाने के लिए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
थक गई हूं
थक गई हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
बो रही हूं खाब
बो रही हूं खाब
Surinder blackpen
छन्द- सम वर्णिक छन्द
छन्द- सम वर्णिक छन्द " कीर्ति "
rekha mohan
■ आज का नमन्।।
■ आज का नमन्।।
*Author प्रणय प्रभात*
शीत की शब में .....
शीत की शब में .....
sushil sarna
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
शीर्षक – वह दूब सी
शीर्षक – वह दूब सी
Manju sagar
बेटी
बेटी
Sushil chauhan
ये पल आएंगे
ये पल आएंगे
Srishty Bansal
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
Keshav kishor Kumar
पापा
पापा
Kanchan Khanna
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विश्वास
विश्वास
विजय कुमार अग्रवाल
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
23/38.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/38.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*लम्हा  प्यारा सा पल में  गुजर जाएगा*
*लम्हा प्यारा सा पल में गुजर जाएगा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चंचल - मन पाता कहाँ , परमब्रह्म का बोध (कुंडलिया)
चंचल - मन पाता कहाँ , परमब्रह्म का बोध (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
Loading...