Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

प्रभु हैं खेवैया

प्रभु है एक खेवैया

हृदय की तरंगिणी में,
बहती जीवन की नैया ।
सुख-दुःख की हिलोरे,
तू ही है एक खेवैया ।

माया के पाश-बध में,
जग है भूल – भूलैया ।
भक्ति की डोर बाँधी,
तू ही है एक खेवैया ।

बँधकर मोह-पाश में,
ढूँढे सुख की शैय्या ।
मानव-मन भ्रमित हुआ,
तू ही है एक खेवैया ।

तैतीस कोटि देव देह में,
धारण करती गो मैया।
गो-सेवा करते भक्तों का,
तू ही है एक खेवैया ।

हिरण्यकश्यपु असुर-वंश में,
जन्मा विष्णुनाम लेवैया ।
अबोध प्रहलाद के जीवन का,
तू ही है एक खेवैया।
– डॉ० उपासना पाण्डेय

Language: Hindi
2 Likes · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हंस के 2019 वर्ष-अंत में आए दलित विशेषांकों का एक मुआयना / musafir baitha
हंस के 2019 वर्ष-अंत में आए दलित विशेषांकों का एक मुआयना / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
Anand Kumar
हिन्दी दोहा -जगत
हिन्दी दोहा -जगत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोहा त्रयी. . . सन्तान
दोहा त्रयी. . . सन्तान
sushil sarna
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
23/137.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/137.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अजब गजब
अजब गजब
साहिल
"बखान"
Dr. Kishan tandon kranti
मां भारती से कल्याण
मां भारती से कल्याण
Sandeep Pande
सगीर की ग़ज़ल
सगीर की ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जुदाई की शाम
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
केवल
केवल
Shweta Soni
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*
*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
😊आज का सच😊
😊आज का सच😊
*प्रणय प्रभात*
इस क़दर उलझे हुए हैं अपनी नई ज़िंदगी से,
इस क़दर उलझे हुए हैं अपनी नई ज़िंदगी से,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"राजनीति में जोश, जुबाँ, ज़मीर, जज्बे और जज्बात सब बदल जाते ह
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तौलकर बोलना औरों को
तौलकर बोलना औरों को
DrLakshman Jha Parimal
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
Paras Nath Jha
लोग कहते हैं मैं कड़वी जबान रखता हूँ
लोग कहते हैं मैं कड़वी जबान रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
(19) तुझे समझ लूँ राजहंस यदि----
(19) तुझे समझ लूँ राजहंस यदि----
Kishore Nigam
भगवत गीता जयंती
भगवत गीता जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
हुआ पिया का आगमन
हुआ पिया का आगमन
लक्ष्मी सिंह
नज़्म - चांद हथेली में
नज़्म - चांद हथेली में
Awadhesh Singh
मेरे जाने के बाद ,....
मेरे जाने के बाद ,....
ओनिका सेतिया 'अनु '
"बारिश की बूंदें" (Raindrops)
Sidhartha Mishra
Loading...