Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

प्रकृति कि प्रक्रिया

प्रकृति कि प्रक्रिया एक बीज को पहले जमीन मे बोया जाता है फिर वह अंकुरित होता फिर छोटा सा पौधा बनता है धीरे धीरे वह एक विशाल वृक्ष का रूप ले लेता है यह एक प्रकृति की सतत प्रक्रिया है जो क्रम बद्ध तरीके से चलता रहता है
ठीक उसी प्रकार हमारे साथ भी जो कुछ होता है वह अचानक नही होता है प्रकृति ने पहले से तय करके रखा है
हम एक प्रक्रिया मात्र है हो निरंतर चलते रहते है

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
रिश्ता कभी खत्म नहीं होता
रिश्ता कभी खत्म नहीं होता
Ranjeet kumar patre
दोस्ती
दोस्ती
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मृत्युभोज
मृत्युभोज
अशोक कुमार ढोरिया
आंखे मोहब्बत की पहली संकेत देती है जबकि मुस्कुराहट दूसरी और
आंखे मोहब्बत की पहली संकेत देती है जबकि मुस्कुराहट दूसरी और
Rj Anand Prajapati
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
#परिहास
#परिहास
*Author प्रणय प्रभात*
"चीखें विषकन्याओं की"
Dr. Kishan tandon kranti
कोई तो है
कोई तो है
ruby kumari
प्रेम पथिक
प्रेम पथिक
Aman Kumar Holy
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
पापा के परी
पापा के परी
जय लगन कुमार हैप्पी
मोहता है सबका मन
मोहता है सबका मन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
कवि दीपक बवेजा
जीवन !
जीवन !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
विमला महरिया मौज
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
आया होली का त्यौहार
आया होली का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
अक्षय चलती लेखनी, लिखती मन की बात।
अक्षय चलती लेखनी, लिखती मन की बात।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
2299.पूर्णिका
2299.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कबीर का पैगाम
कबीर का पैगाम
Shekhar Chandra Mitra
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
अल्फाज़
अल्फाज़
हिमांशु Kulshrestha
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Sakshi Tripathi
दुआ नहीं होना
दुआ नहीं होना
Dr fauzia Naseem shad
ज़िन्दगी की गोद में
ज़िन्दगी की गोद में
Rashmi Sanjay
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
फूल और खंजर
फूल और खंजर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...