Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2023 · 1 min read

“प्यार की कहानी “

“प्यार की कहानी ”

दूरियां अब रिश्ते की मजबूरी बन गई,
प्यार की यादों में जीना ही हकीकत बन गई।
आंखों में अश्क,दिल में दर्द बसा है,
बिछड़े हुए प्यार की कहानी बन गई।
पर क्या कहें जिन्दगी आगे बढ़ती है,
बिछड़े हुए प्यार की यादें दिल में बसती है।
वो दिल तोड़ने वाली राहों में पर आ जाए,
फिर से प्यार की मिठास से दिल को भर जाए।।

9 Likes · 1 Comment · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमें आशिकी है।
हमें आशिकी है।
Taj Mohammad
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
रामावतार रामायणसार 🙏🙏
रामावतार रामायणसार 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिल्ली चलअ
दिल्ली चलअ
Shekhar Chandra Mitra
"हँसिया"
Dr. Kishan tandon kranti
#अनंत_की_यात्रा_पर
#अनंत_की_यात्रा_पर
*Author प्रणय प्रभात*
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
हमको इतनी आस बहुत है
हमको इतनी आस बहुत है
Dr. Alpana Suhasini
मन अपने बसाओ तो
मन अपने बसाओ तो
surenderpal vaidya
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
सुनील कुमार
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
कृष्णकांत गुर्जर
समझ
समझ
अखिलेश 'अखिल'
चार कदम चलने को मिल जाता है जमाना
चार कदम चलने को मिल जाता है जमाना
कवि दीपक बवेजा
माई कहाँ बा
माई कहाँ बा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*जब से मुझे पता चला है कि*
*जब से मुझे पता चला है कि*
Manoj Kushwaha PS
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
shabina. Naaz
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
बस एक गलती
बस एक गलती
Vishal babu (vishu)
कैसे कहूँ ‘आनन्द‘ बनने में ज़माने लगते हैं
कैसे कहूँ ‘आनन्द‘ बनने में ज़माने लगते हैं
Anand Kumar
*....आज का दिन*
*....आज का दिन*
Naushaba Suriya
चिड़िया की बस्ती
चिड़िया की बस्ती
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2400.पूर्णिका
2400.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*शुभ रात्रि हो सबकी*
*शुभ रात्रि हो सबकी*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
खुद्दारी ( लघुकथा)
खुद्दारी ( लघुकथा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ज़माने   को   समझ   बैठा,  बड़ा   ही  खूबसूरत है,
ज़माने को समझ बैठा, बड़ा ही खूबसूरत है,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
यादों के जंगल में
यादों के जंगल में
Surinder blackpen
अगर तेरी बसारत में सिर्फ एक खिलौना ये अवाम है
अगर तेरी बसारत में सिर्फ एक खिलौना ये अवाम है
'अशांत' शेखर
Loading...