Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

प्यार का पंचनामा

प्यार का पंचनामा कुछ हुआ इस तरह कि,
प्यार तो बचा नहीं,
बस कुछ प्यार के शेष-अवशेष बचे हैं,
कहने को बहुत कुछ है किंतु,
बयां करने को कुछ नहीं बचा।
……………
प्यार में हकीकत और कपोल कल्पना में अंतर होता है,
हकीकत से कोसों दूर होती है कल्पना का संसार,
कई बार कल्पना का राजकुमार,
हकीकत का सुदामा ही निकलता है,
जिसे चाहो उसे हासिल कर लो यह जरूरी नहीं है,
अक्सर खामोशी में ही जिंदगी का,
सफर बीत जाया करता है,
……………..
खामोशी भी प्यार का एक पैरामीटर है,
चाहत की एक कसौटी है खामोशी भी,
जिसे लफ्जों में जाहिर नहीं किया जा सकता है,
सिर्फ और सिर्फ सोच पर आधारित है,
ख़ामोशी और प्यार का सफ़र, और,
इसी ख़ामोशी में छिपी है प्यार की मंजिल,
और प्यार का पंचनामा भी,
आर- पार का अंतर्द्वंद होता है दोनों में,
और अजीब सी कसमश होती है,
दोनों के सफ़र में।

घोषणा: उक्त रचना मौलिक अप्रकाशित एवं स्वरचित है। यह रचना पहले फेसबुक पेज या व्हाट्स एप ग्रुप पर प्रकाशित नहीं हुई है।

डॉ प्रवीण ठाकुर,
भाषा अधिकारी,
निगमित निकाय, भारत सरकार।
शिमला हिमाचल प्रदेश

Language: Hindi
281 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2885.*पूर्णिका*
2885.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr. Priya Gupta
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
पूर्वार्थ
कृष्ण कन्हैया
कृष्ण कन्हैया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
शेखर सिंह
हृदय को ऊॅंचाइयों का भान होगा।
हृदय को ऊॅंचाइयों का भान होगा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
जय माता दी -
जय माता दी -
Raju Gajbhiye
8. *माँ*
8. *माँ*
Dr Shweta sood
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मैं चाँद पर गया
मैं चाँद पर गया
Satish Srijan
■ नाम बड़ा, दर्शन क्यों छोटा...?
■ नाम बड़ा, दर्शन क्यों छोटा...?
*Author प्रणय प्रभात*
योग दिवस पर
योग दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
* तुगलकी फरमान*
* तुगलकी फरमान*
Dushyant Kumar
आहत हो कर बापू बोले
आहत हो कर बापू बोले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आउट करें, गेट आउट करें
आउट करें, गेट आउट करें
Dr MusafiR BaithA
*मारीच (कुंडलिया)*
*मारीच (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
DrLakshman Jha Parimal
"चिता"
Dr. Kishan tandon kranti
चली ये कैसी हवाएं...?
चली ये कैसी हवाएं...?
Priya princess panwar
अवसर
अवसर
संजय कुमार संजू
अपनी कलम से.....!
अपनी कलम से.....!
singh kunwar sarvendra vikram
मीठी नींद नहीं सोना
मीठी नींद नहीं सोना
Dr. Meenakshi Sharma
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
हिन्दी दोहा बिषय-चरित्र
हिन्दी दोहा बिषय-चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
gurudeenverma198
दुख तब नहीं लगता
दुख तब नहीं लगता
Harminder Kaur
जो रोज समय पर उगता है
जो रोज समय पर उगता है
Shweta Soni
Loading...