Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

“पृथ्वी”

“पृथ्वी”
पृथ्वी टिकी नहीं है
शेषनाग के फन पर
न बैलों के सींग पर
न कछुए की पीठ पर
यह सिर्फ टिकी हुई है
इंसानी जज्बा जुनून जिद पर।
-डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
(12वीं काव्य-कृति : ‘पत्थर के फूल’ से)

4 Likes · 2 Comments · 81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
वो
वो
Ajay Mishra
*देश के  नेता खूठ  बोलते  फिर क्यों अपने लगते हैँ*
*देश के नेता खूठ बोलते फिर क्यों अपने लगते हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
Jyoti Khari
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
शिक्षा
शिक्षा
Buddha Prakash
मित्र भेस में आजकल,
मित्र भेस में आजकल,
sushil sarna
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
डिजेन्द्र कुर्रे
खेत -खलिहान
खेत -खलिहान
नाथ सोनांचली
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
“पहाड़ी झरना”
“पहाड़ी झरना”
Awadhesh Kumar Singh
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
Suryakant Dwivedi
मंजिल तक पहुँचने के लिए
मंजिल तक पहुँचने के लिए
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
2260.
2260.
Dr.Khedu Bharti
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
Dr MusafiR BaithA
यह हक़ीक़त है
यह हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
Dr Pranav Gautam
साईं बाबा
साईं बाबा
Sidhartha Mishra
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
ruby kumari
*Success_Your_Goal*
*Success_Your_Goal*
Manoj Kushwaha PS
रंगीला संवरिया
रंगीला संवरिया
Arvina
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
एक सच
एक सच
Neeraj Agarwal
सजाता कौन
सजाता कौन
surenderpal vaidya
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
gurudeenverma198
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
Anand Kumar
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐प्रेम कौतुक-220💐
💐प्रेम कौतुक-220💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एकजुट हो प्रयास करें विशेष
एकजुट हो प्रयास करें विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...