Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

पुलवामा अटैक

तुमने देखा
कैसे कटी होगी
ये रातें,ये दिन।
सो गया तू तो ,सीने पर गोली खा।
कैसे अपने हाथों सिंदूर था पोंछा।
कैसे लाल अपने को गोद मे उठा।
कहां था मुखाग्नि पिता। को दिखा।
क्या तुमने देखा???
बूढ़े मां बाबा को कैसे दिया हौसला।
कितना मुश्किल रहा होगा तब जीना।
बाप को देना पड़ा हो बेटे को कंधा।
कैसे जी रही हूं अश्कों को मैं छिपा।
क्या तुमने देखा ???
छोटी बहन की कैसे की डोली विदा।
राखी पर बहन को मैं न सकी समझा।
कैसे तीज पर न गया कोई उसे लिवा।
कैसे पूरी करूं भाई की कमी बता।
क्या तुमने देखा???
हंस देती हूं मैं कैसे अश्कों को छिपा।
मेरा पूरा जीवन गये हो रंगहीन बना ।
कैसे बनी हूं पत्थर मैं ठोकर खा खा।
कितना कठिन एक विधवा कहलाना।
क्या तुमने देखा???
सुरिंदर कौर

Language: Hindi
157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
ओ! चॅंद्रयान
ओ! चॅंद्रयान
kavita verma
पावस की रात
पावस की रात
लक्ष्मी सिंह
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी
पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी
Anjana banda
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
Sushila joshi
स्वर्ग से सुन्दर
स्वर्ग से सुन्दर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
****वो जीवन मिले****
****वो जीवन मिले****
Kavita Chouhan
पिछले पन्ने 3
पिछले पन्ने 3
Paras Nath Jha
अबला नारी
अबला नारी
Buddha Prakash
#जिज्ञासा-
#जिज्ञासा-
*Author प्रणय प्रभात*
"आओ बचाएँ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
पिता
पिता
Kanchan Khanna
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
ruby kumari
ज़िंदगी जीना
ज़िंदगी जीना
Dr fauzia Naseem shad
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
Harminder Kaur
दूर रहकर तो मैं भी किसी का हो जाऊं
दूर रहकर तो मैं भी किसी का हो जाऊं
डॉ. दीपक मेवाती
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
कौशल कविता का - कविता
कौशल कविता का - कविता
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
नई शुरावत नई कहानियां बन जाएगी
नई शुरावत नई कहानियां बन जाएगी
पूर्वार्थ
विकृतियों की गंध
विकृतियों की गंध
Kaushal Kishor Bhatt
योगी?
योगी?
Sanjay ' शून्य'
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
Mukta Rashmi
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आत्मबल
आत्मबल
Punam Pande
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
SPK Sachin Lodhi
आता है संसार में,
आता है संसार में,
sushil sarna
*पति-पत्नी दो श्वास हैं, किंतु एक आभास (कुंडलिया)*
*पति-पत्नी दो श्वास हैं, किंतु एक आभास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
gurudeenverma198
Loading...