Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2022 · 1 min read

पिता

दिन में सूरज, रात में चांद है,
पिता मेरे लिए पूरा आसमान है|
इच्छाएं मेरी, प्रयास उसके,
जीवन समस्या तो पिता समाधान है|
मन उलझे या दिल में उदासी हो,
साथ में पिता हो तो मुट्ठी में जहान है|
गणित सा जटिल, साहित्य सा भावुक,
पिता का दर्शन ही, मेरा मनोविज्ञान है|
मुझे आकार देने को लगा दे समस्त ऊर्जा,
पिता कुम्हार, कभी चित्रकार महान है|
मैं उजली रहूं, कर लिए खुद के कपड़े मैले,
अपने हाथों से मुझे ऊपर उठाए, पिता पहलवान है|

7 Likes · 11 Comments · 456 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विदाई
विदाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
"नारियल"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
उन से कहना था
उन से कहना था
हिमांशु Kulshrestha
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
अब तो मिलने में भी गले - एक डर सा लगता है
अब तो मिलने में भी गले - एक डर सा लगता है
Atul "Krishn"
6-
6- "अयोध्या का राम मंदिर"
Dayanand
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Madhu Shah
आए हैं रामजी
आए हैं रामजी
SURYA PRAKASH SHARMA
बिगड़ता यहां परिवार देखिए........
बिगड़ता यहां परिवार देखिए........
SATPAL CHAUHAN
जीवन का कठिन चरण
जीवन का कठिन चरण
पूर्वार्थ
समय आयेगा
समय आयेगा
नूरफातिमा खातून नूरी
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
Vandna Thakur
स्पीड
स्पीड
Paras Nath Jha
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
Ranjeet kumar patre
कुछ करो ऐसा के अब प्यार सम्भाला जाये
कुछ करो ऐसा के अब प्यार सम्भाला जाये
shabina. Naaz
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
Neelam Sharma
कामवासना
कामवासना
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
Dr Manju Saini
यूॅं बचा कर रख लिया है,
यूॅं बचा कर रख लिया है,
Rashmi Sanjay
इसके जैसा
इसके जैसा
Dr fauzia Naseem shad
मत देख कि कितनी बार  हम  तोड़े  जाते  हैं
मत देख कि कितनी बार हम तोड़े जाते हैं
Anil Mishra Prahari
दोहे
दोहे
Suryakant Dwivedi
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
जां से गए।
जां से गए।
Taj Mohammad
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल "हृद
Radhakishan R. Mundhra
उस पद की चाहत ही क्या,
उस पद की चाहत ही क्या,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...