Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 16, 2022 · 1 min read

पिता

दिन में सूरज, रात में चांद है,
पिता मेरे लिए पूरा आसमान है|
इच्छाएं मेरी, प्रयास उसके,
जीवन समस्या तो पिता समाधान है|
मन उलझे या दिल में उदासी हो,
साथ में पिता हो तो मुट्ठी में जहान है|
गणित सा जटिल, साहित्य सा भावुक,
पिता का दर्शन ही, मेरा मनोविज्ञान है|
मुझे आकार देने को लगा दे समस्त ऊर्जा,
पिता कुम्हार, कभी चित्रकार महान है|
मैं उजली रहूं, कर लिए खुद के कपड़े मैले,
अपने हाथों से मुझे ऊपर उठाए, पिता पहलवान है|

7 Likes · 11 Comments · 132 Views
You may also like:
पिता
Santoshi devi
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
गीत... हो रहे हैं लोग
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
इश्क
goutam shaw
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नजरों की तलाश
Dr. Alpa H. Amin
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H. Amin
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
बदरा कोहनाइल हवे
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
वेवफा प्यार
Anamika Singh
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
मेरी चुनरिया
DESH RAJ
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
संघर्ष
Arjun Chauhan
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार "कर्ण"
हवा के झोंको में जुल्फें बिखर जाती हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
घड़ी
AMRESH KUMAR VERMA
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
✍️आज फिर जेब खाली है✍️
"अशांत" शेखर
Religious Bigotry
Mahesh Ojha
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
✍️लॉकडाउन✍️
"अशांत" शेखर
मोहब्बत में दिल।
Taj Mohammad
टूटता तारा
Anamika Singh
तल्खिय़ां
Anoop Sonsi
Loading...