Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2022 · 1 min read

पिता

चार अक्षरो से शब्द बने
इन शब्दो का कोई मोल नही
अनमोल हुए ये शब्द जहाॅ में
कीमत इसकी कोई नही
रिस्ते नाते ए बस भूल कर
बस अपना धर्म निभाते है
धर्म होता गुरू का जैसे
बैसे कर्म बनाते है
जननी जनती 9माह गर्व मे बच्चो को
किन्तु ये सारी उम्र भार उठाते है
धन्य धन्य ये महान
जो आस कभी न उनसे रखते
दुनिया इनको कितने नामो से अलंकृत कर कहलाती है
कोई तुलना गगन से करता
कोई महानता बतलाता है
माॅ के आगे इनको समाज दूदलाता है
दर्द भरा रहता मन में
जा के इनसे कोई पूछे
जीवन भर पीढा सहते
दूर कभी न बच्चो से होते
कष्ट हमेशा वो सहते
इसलिए इन्हे पापा कहते। ।।।।।।।।

Language: Hindi
4 Likes · 1 Comment · 191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अवसरवाद" की
*Author प्रणय प्रभात*
ख़्बाब आंखों में बंद कर लेते - संदीप ठाकुर
ख़्बाब आंखों में बंद कर लेते - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
दोयम दर्जे के लोग
दोयम दर्जे के लोग
Sanjay ' शून्य'
प्रयास जारी रखें
प्रयास जारी रखें
Mahender Singh
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
वीज़ा के लिए इंतज़ार
वीज़ा के लिए इंतज़ार
Shekhar Chandra Mitra
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
Kunal Prashant
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मजबूत रिश्ता
मजबूत रिश्ता
Buddha Prakash
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
डी. के. निवातिया
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
Manoj Mahato
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*अवध  में  प्रभु  राम  पधारें है*
*अवध में प्रभु राम पधारें है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पानीपुरी (व्यंग्य)
पानीपुरी (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
साईं बाबा
साईं बाबा
Sidhartha Mishra
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
Vishal babu (vishu)
किस बात का गुमान है यारो
किस बात का गुमान है यारो
Anil Mishra Prahari
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जीवन को सुखद बनाने की कामना मत करो
जीवन को सुखद बनाने की कामना मत करो
कृष्णकांत गुर्जर
💐प्रेम कौतुक-185💐
💐प्रेम कौतुक-185💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*अग्निवीर*
*अग्निवीर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आंखें मेरी तो नम हो गई है
आंखें मेरी तो नम हो गई है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
Charu Mitra
"सूदखोरी"
Dr. Kishan tandon kranti
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
Suryakant Dwivedi
2751. *पूर्णिका*
2751. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...