Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2024 · 1 min read

“पिता है तो”

“पिता है तो”
पिता है तो
पूरी एक दीवार है,
उनके घेरे में
खुशियों का संसार है।

1 Like · 1 Comment · 72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
होली
होली
Madhu Shah
देश भक्ति का ढोंग
देश भक्ति का ढोंग
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
मजदूर की मजबूरियाँ ,
मजदूर की मजबूरियाँ ,
sushil sarna
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
लिखते दिल के दर्द को
लिखते दिल के दर्द को
पूर्वार्थ
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
"" *गीता पढ़ें, पढ़ाएं और जीवन में लाएं* ""
सुनीलानंद महंत
* राह चुनने का समय *
* राह चुनने का समय *
surenderpal vaidya
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
आइये तर्क पर विचार करते है
आइये तर्क पर विचार करते है
शेखर सिंह
2856.*पूर्णिका*
2856.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब टूटा था सपना
जब टूटा था सपना
Paras Nath Jha
उसकी खामोशियों का राज़ छुपाया मैंने।
उसकी खामोशियों का राज़ छुपाया मैंने।
Phool gufran
मुस्कुराते रहो
मुस्कुराते रहो
Basant Bhagawan Roy
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
उठ वक़्त के कपाल पर,
उठ वक़्त के कपाल पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कर्म का फल
कर्म का फल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
चंद्र प्रकाश द्वय:ः मधुर यादें
चंद्र प्रकाश द्वय:ः मधुर यादें
Ravi Prakash
तेरी धरा मैं हूँ
तेरी धरा मैं हूँ
Sunanda Chaudhary
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
श्रमिक  दिवस
श्रमिक दिवस
Satish Srijan
जब दादा जी घर आते थे
जब दादा जी घर आते थे
VINOD CHAUHAN
"सरकस"
Dr. Kishan tandon kranti
Kahi pass akar ,ek dusre ko hmesha ke liye jan kar, hum dono
Kahi pass akar ,ek dusre ko hmesha ke liye jan kar, hum dono
Sakshi Tripathi
■ समझदार टाइप के नासमझ।
■ समझदार टाइप के नासमझ।
*प्रणय प्रभात*
सफलता की फसल सींचने को
सफलता की फसल सींचने को
Sunil Maheshwari
🎊🏮*दीपमालिका  🏮🎊
🎊🏮*दीपमालिका 🏮🎊
Shashi kala vyas
जो कभी रहते थे दिल के ख्याबानो में
जो कभी रहते थे दिल के ख्याबानो में
shabina. Naaz
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Mamta Rani
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
Loading...