Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2022 · 1 min read

पिता जी का आशीर्वाद है !

जहां जहां श्रध्दा है,
वहीं आशीर्वाद है।
आज हम जो भी हैं,
पिताजी का आशीर्वाद है।

उन्नति ,सुख-दुःख बैभव,
आस और उत्साह है।
हो रहा है सब मंगल,
पिताजी का आशीर्वाद है।

वे हैं हमारे रक्षक,
अद्भुत शक्ति रूप हैं।
परमात्मा स्वरूप वो,
हम सभी के भूप हैं।

हे प्रभु जन्मदाता ,
बारम्बार धन्यवाद है।
आज हम जो भी हैं,
पिता जी का आशीर्वाद है।

आज इस ‘दीप’ का,
जितना भी प्रकाश है।
लेखनी जो लिख रही,
पिताजी का आशीर्वाद है।

-जारी
-©कुल’दीप’ मिश्रा

9 Likes · 7 Comments · 2009 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
Shakil Alam
#संबंधों_की_उधड़ी_परतें, #उरतल_से_धिक्कार_रहीं !!
#संबंधों_की_उधड़ी_परतें, #उरतल_से_धिक्कार_रहीं !!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)
*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
प्यार दीवाना ही नहीं होता
प्यार दीवाना ही नहीं होता
Dr Archana Gupta
Pyasa ke dohe (vishwas)
Pyasa ke dohe (vishwas)
Vijay kumar Pandey
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
Neelam Sharma
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
धूतानां धूतम अस्मि
धूतानां धूतम अस्मि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"आत्मकथा"
Rajesh vyas
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
Sukoon
ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,
ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,
Buddha Prakash
पुस्तक तो पुस्तक रहा, पाठक हुए महान।
पुस्तक तो पुस्तक रहा, पाठक हुए महान।
Manoj Mahato
👍कमाल👍
👍कमाल👍
*Author प्रणय प्रभात*
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
पंखा
पंखा
देवराज यादव
मैं नारी हूँ
मैं नारी हूँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
खंजर
खंजर
AJAY AMITABH SUMAN
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
सावन म वैशाख समा गे
सावन म वैशाख समा गे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"रंग और पतंग"
Dr. Kishan tandon kranti
*** मेरे सायकल की सवार....! ***
*** मेरे सायकल की सवार....! ***
VEDANTA PATEL
*प्यार या एहसान*
*प्यार या एहसान*
Harminder Kaur
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
gurudeenverma198
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagawan Roy
बदलाव
बदलाव
Dr. Rajeev Jain
" करवा चौथ वाली मेहंदी "
Dr Meenu Poonia
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...