Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 18, 2022 · 1 min read

पिता जी का आशीर्वाद है !

जहां जहां श्रध्दा है,
वहीं आशीर्वाद है।
आज हम जो भी हैं,
पिताजी का आशीर्वाद है।

उन्नति ,सुख-दुःख बैभव,
आस और उत्साह है।
हो रहा है सब मंगल,
पिताजी का आशीर्वाद है।

वे हैं हमारे रक्षक,
अद्भुत शक्ति रूप हैं।
परमात्मा स्वरूप वो,
हम सभी के भूप हैं।

हे प्रभु जन्मदाता ,
बारम्बार धन्यवाद है।
आज हम जो भी हैं,
पिता जी का आशीर्वाद है।

आज इस ‘दीप’ का,
जितना भी प्रकाश है।
लेखनी जो लिख रही,
पिताजी का आशीर्वाद है।

-जारी
-©कुल’दीप’ मिश्रा

7 Likes · 7 Comments · 131 Views
You may also like:
साल गिरह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार "कर्ण"
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
एक दिया अनजान साथी के नाम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संविधान विशेष है
Buddha Prakash
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
My dear Mother.
Taj Mohammad
मिलन की तड़प
Dr. Alpa H. Amin
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
बदनाम दिल बेचारा है
Taj Mohammad
चेहरा
शिव प्रताप लोधी
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
धोखा
Anamika Singh
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️किसान की आत्मकथा✍️
"अशांत" शेखर
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
कोमल एहसास प्यार का....
Dr. Alpa H. Amin
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
सच
अंजनीत निज्जर
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
हाँ, अब मैं ऐसा ही हूँ
gurudeenverma198
Loading...