Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2022 · 1 min read

पिता जी का आशीर्वाद है !

जहां जहां श्रध्दा है,
वहीं आशीर्वाद है।
आज हम जो भी हैं,
पिताजी का आशीर्वाद है।

उन्नति ,सुख-दुःख बैभव,
आस और उत्साह है।
हो रहा है सब मंगल,
पिताजी का आशीर्वाद है।

वे हैं हमारे रक्षक,
अद्भुत शक्ति रूप हैं।
परमात्मा स्वरूप वो,
हम सभी के भूप हैं।

हे प्रभु जन्मदाता ,
बारम्बार धन्यवाद है।
आज हम जो भी हैं,
पिता जी का आशीर्वाद है।

आज इस ‘दीप’ का,
जितना भी प्रकाश है।
लेखनी जो लिख रही,
पिताजी का आशीर्वाद है।

-जारी
-©कुल’दीप’ मिश्रा

Language: Hindi
Tag: कविता
8 Likes · 7 Comments · 634 Views
You may also like:
Power of Brain
Nishant prakhar
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
God has destined me with a unique goal
Manisha Manjari
"पेट को मालिक किसान"
Dr Meenu Poonia
🙏महागौरी🙏
पंकज कुमार कर्ण
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
ये सिर्फ मैं जानता हूँ
Swami Ganganiya
रूह को कैसे सजाओगे।
Taj Mohammad
कोई भी
Dr fauzia Naseem shad
“ मिलिटरी ट्रैनिंग सभक लेल “
DrLakshman Jha Parimal
नहीं हूँ देवता पर पाँव की ठोकर नहीं बनता
Anis Shah
गलती का समाधान----
सुनील कुमार
ग़ज़ल
Rashmi Sanjay
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हाँ, उनका स्थान तो
gurudeenverma198
✍️सोया हुवा शेर✍️
'अशांत' शेखर
मां महागौरी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन
लक्ष्मी सिंह
मस्तान मियां
Shivkumar Bilagrami
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं स्नेह।
sheelasingh19544 Sheela Singh
*नमन गुरुवर की छाया (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
युवाको मानसिकता (नेपाली लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
हर चीज से वीरान मैं अब श्मशान बन गया हूँ,
Aditya Prakash
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
कसक ...
Amod Kumar Srivastava
फूल की महक
DESH RAJ
Loading...