Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2024 · 1 min read

पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन

काशी का नूर , ज्ञान का सुरूर ,
महाराजा सी शान, तो फौजी की आन;
ईश्वर के स्वरूप के प्रतिरूप का कर्म थे आप,
हे पिता ! मेरा तो हर धर्म थे आप |

कभी हमारे दुखों का सलीब ढोकर;
तो कभी सांसारिक ज्ञान के गुरु होकर;
कभी बलशाली की तरह देते थे सरपरस्ती;
कभी आदर्श राम से , कभी विद्या -मानो माँ सरस्वती;
दुर्भावनाओं के जंजाल का विकल्प थे आप ,
मुझ में है गूँजता , आपके ही आशीर्वाद का आलाप I

भावनाओं के आवेग क्या शब्दों के मोहताज हैं ?
आप हमारे कल की सर्जना थे और अत्युत्तम प्रेरणा आज हैं;
कभी खिल-खिला के कहता था, हमारे भी खुशियों का संसार
आप जिएं हजारों साल………….साल में दिन हों पचास हजार ||

Language: Hindi
1 Like · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
View all
You may also like:
क्षणिकाएं
क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ह्रदय
ह्रदय
Monika Verma
दीवाली
दीवाली
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
और कितना मुझे ज़िंदगी
और कितना मुझे ज़िंदगी
Shweta Soni
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
Maroof aalam
मंगल मय हो यह वसुंधरा
मंगल मय हो यह वसुंधरा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
तू नहीं है तो ये दुनियां सजा सी लगती है।
तू नहीं है तो ये दुनियां सजा सी लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
3138.*पूर्णिका*
3138.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“सभी के काम तुम आओ”
“सभी के काम तुम आओ”
DrLakshman Jha Parimal
*क्या हुआ आसमान नहीं है*
*क्या हुआ आसमान नहीं है*
Naushaba Suriya
राह पर चलते चलते घटित हो गई एक अनहोनी, थम गए कदम,
राह पर चलते चलते घटित हो गई एक अनहोनी, थम गए कदम,
Sukoon
आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अन्तर होता है
आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अन्तर होता है
शेखर सिंह
अंहकार
अंहकार
Neeraj Agarwal
लें दे कर इंतज़ार रह गया
लें दे कर इंतज़ार रह गया
Manoj Mahato
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
"लालटेन"
Dr. Kishan tandon kranti
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
★Dr.MS Swaminathan ★
★Dr.MS Swaminathan ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
अगर आपमें क्रोध रूपी विष पीने की क्षमता नहीं है
अगर आपमें क्रोध रूपी विष पीने की क्षमता नहीं है
Sonam Puneet Dubey
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
वैसे कार्यों को करने से हमेशा परहेज करें जैसा कार्य आप चाहते
वैसे कार्यों को करने से हमेशा परहेज करें जैसा कार्य आप चाहते
Paras Nath Jha
पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी
पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी
Anjana banda
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
manjula chauhan
शीश झुकाएं
शीश झुकाएं
surenderpal vaidya
*बहुत सौभाग्यशाली कोई, पुस्तक खोल पढ़ता है (मुक्तक)*
*बहुत सौभाग्यशाली कोई, पुस्तक खोल पढ़ता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ज़रा-सी बात चुभ जाये,  तो नाते टूट जाते हैं
ज़रा-सी बात चुभ जाये, तो नाते टूट जाते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...