Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2022 · 1 min read

पिता के चरणों को नमन ।

पिता तुम्हारे चरणों को,
नमन करते बार-बार हैं ।

जन्म हुआ इस अद्भुत संसार में,
उसमें तुम्हारा आशीर्वाद है,
समर्पित किया अपने जीवन को,
ऐसा हृदय तुम्हारा विशाल है ।

पिता तुम्हारे चरणों को,
नमन करते बार-बार हैं ।।…..(१)

मेहनत करते निस्वार्थ भाव से,
ऐसे फलदार वृक्ष के समान हो,
तन-मन-धन सब अर्पित कर देते,
सागर से भी गहरा तुम्हारा प्यार है ।

पिता तुम्हारे चरणों को,
नमन करते बार-बार हैं ।।…..(२)

तुम्हारे चरणों की धूल हूंँ मैं,
कृपा तुम्हारी मेरे जीवन का आधार है,
जन्म-मरण के इस संसार में,
मेरे जीवन का करते उद्धार हो।

पिता तुम्हारे चरणों को,
नमन करते बार-बार हैं ।।….(३)

सुख की छाया हमको देते हो,
दुःख की गर्मी को तुम सहते रहते हो ,
कड़वा घूंँट तुम निगल लेते हो ,
अमृत का रस हमें देते हो ।

पिता तुम्हारे चरणों को,
नमन करते बार-बार हैं ।।…..(४)

नाम – बुद्ध प्रकाश,
शहर – मौदहा हमीरपुर ।

Language: Hindi
Tag: कविता
10 Likes · 10 Comments · 407 Views
You may also like:
आदत
Anamika Singh
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
इतना आसां कहां
कवि दीपक बवेजा
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
सावन में साजन को संदेश
Er.Navaneet R Shandily
सवैया /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परख किसको है यहां
Seema 'Tu hai na'
स्वाधीनता
AMRESH KUMAR VERMA
आप हमको जो पढ़ गये होते
Dr fauzia Naseem shad
ये किस धर्म के लोग है
gurudeenverma198
बेचू
Shekhar Chandra Mitra
एक ठहरा ये जमाना
Varun Singh Gautam
कृष्ण मुरारी
लक्ष्मी सिंह
दिल पूछता है हर तरफ ये खामोशी क्यों है
VINOD KUMAR CHAUHAN
ख्वाब
Swami Ganganiya
ग़ज़ल
kamal purohit
Book of the day: अर्चना की कुण्डलियाँ (भाग-1)
Sahityapedia
गंतव्यों पर पहुँच कर भी, यात्रा उसकी नहीं थमती है।
Manisha Manjari
✍️राहे हमसफ़र✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल- इशारे देखो
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Salam shahe_karbala ki shan me
shabina. Naaz
आजादी का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
Ravi Prakash
चालीसा
Anurag pandey
तुम बूंद बंदू बरसना
Saraswati Bajpai
कटुसत्य
Shyam Sundar Subramanian
मेरी चुनरिया
DESH RAJ
मत करना।
Taj Mohammad
Loading...