Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2022 · 1 min read

पिता का पता

पिता का पता
कौन बताए,
कब सोते कब जग जाते हैं,
अथक काम में लग जाते हैं,
कब पीते कब खाते हैं।
कौन बताए?

बच्चों क़ो बढ़ना,
पढ़ना-लिखना,
लिए आंखों में सुंदर सपना
जिए जाते हैं,
भर उमंग उर में अपने वो
कर्म पथ पर बढ़े जाते हैं,
कब बीमार कब इलाज करायें
कौन बताए,

सारे सपने पूरे कर-कर
समझने लायक़ बनाते हैं
कब बूढ़े हो जाते हैं,
हमें छोड़ उड़ जाते हैं,
पिता का पता
कौन बताए ?

©अभिषेक पाण्डेय अभि

35 Likes · 14 Comments · 540 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
पत्नी की प्रतिक्रिया
पत्नी की प्रतिक्रिया
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
मां की ममता जब रोती है
मां की ममता जब रोती है
Harminder Kaur
पता ना चला
पता ना चला
Dr. Kishan tandon kranti
रिमझिम बारिश
रिमझिम बारिश
Anil "Aadarsh"
मेरे वतन मेरे वतन
मेरे वतन मेरे वतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिखता नही किसी को
दिखता नही किसी को
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
अग्निपरीक्षा
अग्निपरीक्षा
Shekhar Chandra Mitra
"वक्त वक्त की बात"
Pushpraj Anant
★साथ तेरा★
★साथ तेरा★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
बापू तेरे देश में...!!
बापू तेरे देश में...!!
Kanchan Khanna
क्यूँ ना करूँ शुक्र खुदा का
क्यूँ ना करूँ शुक्र खुदा का
shabina. Naaz
त्याग
त्याग
Punam Pande
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
अब महान हो गए
अब महान हो गए
विक्रम कुमार
*डंका बजता योग का, दुनिया हुई निहाल (कुंडलिया)*
*डंका बजता योग का, दुनिया हुई निहाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
👌काहे का डर...?👌
👌काहे का डर...?👌
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्दी दोहा - दया
हिन्दी दोहा - दया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मन डूब गया
मन डूब गया
Kshma Urmila
दो कदम
दो कदम
Dr fauzia Naseem shad
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
Manisha Manjari
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
Vishal babu (vishu)
What consumes your mind controls your life
What consumes your mind controls your life
पूर्वार्थ
मोहन तुम से तुम्हीं हो, ग्रथित अनन्वय श्लेष।
मोहन तुम से तुम्हीं हो, ग्रथित अनन्वय श्लेष।
डॉ.सीमा अग्रवाल
2986.*पूर्णिका*
2986.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-554💐
💐प्रेम कौतुक-554💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...