Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2016 · 1 min read

पिताजी को समर्पित

“पापा को समर्पित”

थाम के नन्हे नन्हे हाथों को मेरे

चलना मुझे सिखाया

बैठा कर अपने मजबूत कन्धों पर

ये संसार मुझे दिखाया

लड़खड़ाकर जब भी मैं गिरा

सहारा देकर मुझे उठाया

बहकने लगे जब मेरे कदम

जीने का सही रास्ता दिखाया

थकेमादे लौटे थे ऑफिस से

मेरी घूमने की जिद मानी आपने

जितना मैंने कहा मुझे घुमाया

चलते चलते थक गया मैं

धूल मिटटी से सने थे पाँव मेरे

इस सबसे बेपरवाह होकर

आपने मुझे अपनी गोद में उठाया

सुबह के भूखे थे पापा आप

पहला निवाला मुझे खिलाया

माँ की ममता माँ का प्यार

माँ का अपनापन माँ का दुलार

सबने देखा सबने सराहा

आपका सख्त चेहरा

आपका अत्यधिक क्रोध

बस यही दिखाई दिया सबको

उस सख्ती के पीछे छुपा नर्म दिल

किसी को नजर नहीं आया

छद्म आवरण थी सख्ती वो

ज़रूरी थी मार्गदर्शन के लिए

आपने ही तो जीवन पथ पर

आगे बढ़ना सिखाया

बहुत खुश होता हूँ

जब बात करते हो आप मुझसे

गर्व से फूल जाता है हृदय मेरा

जब आप सलाह लेते हो मुझसे

कभी कभी टोक देता हूँ मैं

आपकी कुछ बुरी आदतों को

पर वो आपकी वाली सख्ती

आ नहीं पाती मुझमे

आज मैं भी वहीँ खड़ा हूँ

जहाँ कभी आप खड़े रहे होगे

एक असीम अनुभूति सुखद एहसास

पितृत्व सुख पाने को आतुर

दिल में कई अरमान लिए

बस एक ही ख्वाहिश लिए अब

आप जैसा पिता बन पाऊं |

“सन्दीप कुमार”

२१/०६/२०१५

पितृ दिवस पर लिखी गयी मेरी रचना

Language: Hindi
3 Comments · 705 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंसानियत
इंसानियत
साहित्य गौरव
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
The_dk_poetry
2577.पूर्णिका
2577.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
Shashi kala vyas
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
Shyam Sundar Subramanian
श्रीराम
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
हम तो कवि है
हम तो कवि है
नन्दलाल सुथार "राही"
माँ सरस्वती-वंदना
माँ सरस्वती-वंदना
Kanchan Khanna
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
💐प्रेम कौतुक-277💐
💐प्रेम कौतुक-277💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आदमी खरीदने लगा है आदमी को ऐसे कि-
आदमी खरीदने लगा है आदमी को ऐसे कि-
Mahendra Narayan
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
बना एक दिन वैद्य का
बना एक दिन वैद्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
Kunal Prashant
*आई गंगा स्वर्ग से, चमत्कार का काम (कुंडलिया)*
*आई गंगा स्वर्ग से, चमत्कार का काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD CHAUHAN
*जातिवाद का खण्डन*
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
अनमोल वचन
अनमोल वचन
Jitendra Chhonkar
* प्यार के शब्द *
* प्यार के शब्द *
surenderpal vaidya
मस्ती का त्यौहार है,  खिली बसंत बहार
मस्ती का त्यौहार है, खिली बसंत बहार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
Ranjeet kumar patre
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
आपकी आहुति और देशहित
आपकी आहुति और देशहित
Mahender Singh Manu
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
Atul "Krishn"
राम रावण युद्ध
राम रावण युद्ध
Kanchan verma
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
Harminder Kaur
■ आज का सबक़
■ आज का सबक़
*Author प्रणय प्रभात*
दिल का कोई
दिल का कोई
Dr fauzia Naseem shad
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...