Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2016 · 1 min read

पिताजी को समर्पित

“पापा को समर्पित”

थाम के नन्हे नन्हे हाथों को मेरे

चलना मुझे सिखाया

बैठा कर अपने मजबूत कन्धों पर

ये संसार मुझे दिखाया

लड़खड़ाकर जब भी मैं गिरा

सहारा देकर मुझे उठाया

बहकने लगे जब मेरे कदम

जीने का सही रास्ता दिखाया

थकेमादे लौटे थे ऑफिस से

मेरी घूमने की जिद मानी आपने

जितना मैंने कहा मुझे घुमाया

चलते चलते थक गया मैं

धूल मिटटी से सने थे पाँव मेरे

इस सबसे बेपरवाह होकर

आपने मुझे अपनी गोद में उठाया

सुबह के भूखे थे पापा आप

पहला निवाला मुझे खिलाया

माँ की ममता माँ का प्यार

माँ का अपनापन माँ का दुलार

सबने देखा सबने सराहा

आपका सख्त चेहरा

आपका अत्यधिक क्रोध

बस यही दिखाई दिया सबको

उस सख्ती के पीछे छुपा नर्म दिल

किसी को नजर नहीं आया

छद्म आवरण थी सख्ती वो

ज़रूरी थी मार्गदर्शन के लिए

आपने ही तो जीवन पथ पर

आगे बढ़ना सिखाया

बहुत खुश होता हूँ

जब बात करते हो आप मुझसे

गर्व से फूल जाता है हृदय मेरा

जब आप सलाह लेते हो मुझसे

कभी कभी टोक देता हूँ मैं

आपकी कुछ बुरी आदतों को

पर वो आपकी वाली सख्ती

आ नहीं पाती मुझमे

आज मैं भी वहीँ खड़ा हूँ

जहाँ कभी आप खड़े रहे होगे

एक असीम अनुभूति सुखद एहसास

पितृत्व सुख पाने को आतुर

दिल में कई अरमान लिए

बस एक ही ख्वाहिश लिए अब

आप जैसा पिता बन पाऊं |

“सन्दीप कुमार”

२१/०६/२०१५

पितृ दिवस पर लिखी गयी मेरी रचना

Language: Hindi
Tag: कविता
3 Comments · 540 Views
You may also like:
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
नजदीक
जय लगन कुमार हैप्पी
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
नया पड़ाव।
Kanchan sarda Malu
जिंदगी के अनमोल मोती
AMRESH KUMAR VERMA
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मौत
Alok Saxena
किसने क्या किया
Dr fauzia Naseem shad
करोड़ों वाले लड़ते( कुंडलिया)
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
घर आंगन
शेख़ जाफ़र खान
" भयंकर यात्रा "
DrLakshman Jha Parimal
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
जब तुम
shabina. Naaz
चौबोला छंद (बड़ा उल्लाला) एवं विधाएँ
Subhash Singhai
रिमोट :: वोट
DESH RAJ
मेरे सपने
सूर्यकांत द्विवेदी
संताप
ओनिका सेतिया 'अनु '
उड़ता लेवे तीर
Sadanand Kumar
जग के पालनहार
Neha
मिलन याद यह रखना
gurudeenverma198
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
देश हे अपना
Swami Ganganiya
*खुशियों का दीपोत्सव आया* 
Deepak Kumar Tyagi
युद्ध के उन्माद में है
Shivkumar Bilagrami
ये दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
अंधे का बेटा अंधा
AJAY AMITABH SUMAN
✍️जिंदगी क्या है...✍️
'अशांत' शेखर
Loading...