Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

*पारस-मणि की चाह नहीं प्रभु, तुमको कैसे पाऊॅं (गीत)*

पारस-मणि की चाह नहीं प्रभु, तुमको कैसे पाऊॅं (गीत)
________________________
पारस-मणि की चाह नहीं प्रभु, तुमको कैसे पाऊॅं
1)
क्या रक्खा है भौतिक जग में, बार-बार भरमाता
जितना भोगों को पा जाओ, उतनी प्यास बढ़ाता
तृप्ति मिलेगी तब ही तुमको, जब भीतर पा जाऊॅं
2)
क्या होगा यदि अष्ट सिद्धियॉं, नव निधियॉं आ जाऍं
दुनिया के संसाधन घर में, डेरा सहज जमाऍं
दुविधा होगी चित्रगुप्त को, क्या उपलब्धि बताऊॅं
3)
पुनर्जन्म की दौड़-भाग में, जन्म हजारों बीते
बिना तुम्हें पाए जीवन के, रहे अर्थ पर रीते
चाह रहा इस बार तुम्हें पा, जीवन नहीं गॅंवाऊॅं
पारस-मणि की चाह नहीं प्रभु, तुमको कैसे पाऊॅं
————————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
पर्यावरण और प्रकृति
पर्यावरण और प्रकृति
Dhriti Mishra
3171.*पूर्णिका*
3171.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"दयानत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
Namrata Sona
■ आदिकाल से प्रचलित एक कारगर नुस्खा।।
■ आदिकाल से प्रचलित एक कारगर नुस्खा।।
*Author प्रणय प्रभात*
दीवाली
दीवाली
Nitu Sah
शहज़ादी
शहज़ादी
Satish Srijan
🙏❌जानवरों को मत खाओ !❌🙏
🙏❌जानवरों को मत खाओ !❌🙏
Srishty Bansal
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
खेल और भावना
खेल और भावना
Mahender Singh
उत्थान राष्ट्र का
उत्थान राष्ट्र का
Er. Sanjay Shrivastava
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
🇭🇺 झाँसी की वीरांगना
🇭🇺 झाँसी की वीरांगना
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धर्म के रचैया श्याम,नाग के नथैया श्याम
धर्म के रचैया श्याम,नाग के नथैया श्याम
कृष्णकांत गुर्जर
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*भूमिका*
*भूमिका*
Ravi Prakash
सत्य से विलग न ईश्वर है
सत्य से विलग न ईश्वर है
Udaya Narayan Singh
दुआ
दुआ
Shekhar Chandra Mitra
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"सन्तुलन"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम नहीं हो
तुम नहीं हो
पूर्वार्थ
झरोखा
झरोखा
Sandeep Pande
मजदूर
मजदूर
umesh mehra
कितना बदल रहे हैं हम
कितना बदल रहे हैं हम
Dr fauzia Naseem shad
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
shabina. Naaz
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
Umender kumar
मैं तो महज एहसास हूँ
मैं तो महज एहसास हूँ
VINOD CHAUHAN
छलनी- छलनी जिसका सीना
छलनी- छलनी जिसका सीना
लक्ष्मी सिंह
Loading...