Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2023 · 2 min read

पापा की परी

पापा की परी

ईश्वर की कृपा और बड़ों के आशीर्वाद से कोरोना की पहली और दूसरी लहर में मैं और मेरा परिवार पूरी तरह से सुरक्षित रहा। लाख सावधानियां बरतने के बावजूद हम तीसरी लहर से अछूता नहीं रह सके।
11-12 जनवरी 2022 की रात ठीक बारह बजे राज्य शासन के स्वास्थ्य विभाग की ओर से मैसेज आया कि मेरी कोरोना आर.टी.पी.सी.आर. रिपोर्ट पॉजीटिव आई है। आशंका थी, इसलिए ऐहतियातन पहले ही खुद को परिवार से अलग कर लिया था। पुष्टि होने के बाद अगले ही दिन होम आइसोलेशन की सारी औपचारिकताएँ ऑनलाइन पूरी करके निर्धारित दवाइयाँ लेने लगा।
हमारी पाँच वर्षीया बेटी परिधि, जिसे हम सभी प्यार से परी संबोधित करते हैं, अक्सर मेरे कमरे, जहाँ मैं आइसोलेटेड था, के बाहर आकर झाँकती रहती। उसकी मम्मी और भैया के बार-बार मना करने के बावजूद वह हर घंटे दो घंटे में एक बार झाँकने पहुँच ही जाती। नजरें मिलते ही बहुत धीमी-सी आवाज में पूछती, “पापा, अब कैसा लग रहा है आपको ? अभी की दवाई खा लिए हैं न ?”
उसकी मनोदशा को देख मन भर आता था। आँखें नम हो जाती थीं। जी करता था कि बच्ची को सीने से लगा लूँ। पर मजबूर था। कोई भी रिस्क नहीं ले सकता था। तब मैं कोरोना पॉजीटिव जो था।
लगभग सप्ताह भर बाद जब मेरा होम आइसोलेशन पूरा हो गया और मैं पुनः अपनी सामान्य दिनचर्या में लौटने लगा, तो पूरे दिनभर वह मेरे साथ चिपकी रही।
बातचीत के दौरान घर के बड़े सयानों की तरह बोलने लगी, “पापा, आपको तो पता ही है कि पिछले कई महीनों से मेरे नानाजी बीमार हैं। उनकी बीमारी की वजह से जैसे मेरी मम्मी बहुत परेशान हैं, वैसे ही आपके बीमार हो जाने से मैं भी बहुत परेशान हो गई थी। मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लग रहा था। आज जबकि आप ठीक हो गए हैं, तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा है।”
महज पाँच साल की बेटी के मुँह से ऐसी गंभीर बात सुनकर मन द्रवित हो गया और मैंने उसे सीने से लगा लिया।
वाकई बेटियाँ बहुत ही केयरिंग नेचर की होती है।
-डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
397 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्री रमेश जैन द्वारा
श्री रमेश जैन द्वारा "कहते रवि कविराय" कुंडलिया संग्रह की सराहना : मेरा सौभाग्य
Ravi Prakash
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
इशारा नहीं होता
इशारा नहीं होता
Neelam Sharma
बहके जो कोई तो संभाल लेना
बहके जो कोई तो संभाल लेना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
*गोल- गोल*
*गोल- गोल*
Dushyant Kumar
जिस समय से हमारा मन,
जिस समय से हमारा मन,
नेताम आर सी
Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Sakshi Tripathi
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
इंडिया दिल में बैठ चुका है दूर नहीं कर पाओगे।
इंडिया दिल में बैठ चुका है दूर नहीं कर पाओगे।
सत्य कुमार प्रेमी
😜 बचपन की याद 😜
😜 बचपन की याद 😜
*Author प्रणय प्रभात*
शस्त्र संधान
शस्त्र संधान
Ravi Shukla
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
सिर्फ चलने से मंजिल नहीं मिलती,
सिर्फ चलने से मंजिल नहीं मिलती,
Anil Mishra Prahari
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
ruby kumari
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रण प्रतापी
रण प्रतापी
Lokesh Singh
शुभ रक्षाबंधन
शुभ रक्षाबंधन
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम अपनी ज़ात में
हम अपनी ज़ात में
Dr fauzia Naseem shad
"सुहागन की अर्थी"
Ekta chitrangini
अहसास
अहसास
Sangeeta Beniwal
"बेहतर"
Dr. Kishan tandon kranti
"मैं न चाहता हार बनू मैं
Shubham Pandey (S P)
गुरु के पद पंकज की पनही
गुरु के पद पंकज की पनही
Sushil Pandey
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
gurudeenverma198
पते की बात - दीपक नीलपदम्
पते की बात - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मां कात्यायनी
मां कात्यायनी
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...