Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2023 · 1 min read

पापा की तो बस यही परिभाषा हैं

पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
मरते दम तक साथ की आशा हैं”

हिंदू धर्म की मान्यता के अनुसार अश्विन माह के कृष्ण पक्ष से अमावश्या तक अपने पितरों के श्राद्ध की परंपरा हैं।श्राद्ध कर्म के रूप में हम अपनी श्रद्धांजलि अपने पितरों को अर्पित करते है।आज चतुर्थी तिथि है।आज ही मेरे जीवनदायक मेरे पापा की श्राद्ध तिथि हैं। पापा मैं प्रतिवर्ष की भाँति ही आज आपका श्राद्ध कर रही हूँ ।आप आज जिस रूप में भी हैं मेरी श्रद्धा ग्रहण करना।मैने तो सभी मिथ को तोड़ आगे बढ़कर कि बेटियां श्राद्ध का हक नही रखती को धता बता अपनी नई परम्परा को जन्म दिया। पापा आपको आपकी बेटी का अश्रुपूरित नमन ।पापा आपका साया तो उठ गया सिर से पर जानती हूँ कि परोक्ष रूप से साया बनकर आप आशीर्वाद रूप में हमेशा मेरे साथ है।
आपकी बिटिया

1 Like · 139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Manju Saini
View all
You may also like:
मेरी हर कविता में सिर्फ तुम्हरा ही जिक्र है,
मेरी हर कविता में सिर्फ तुम्हरा ही जिक्र है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
Manisha Manjari
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
Rajesh Kumar Arjun
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कांतिपति का चुनाव-रथ
कांतिपति का चुनाव-रथ
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
बेदर्द ...................................
बेदर्द ...................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
जीत से बातचीत
जीत से बातचीत
Sandeep Pande
दिल कि आवाज
दिल कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
निदामत का एक आँसू ......
निदामत का एक आँसू ......
shabina. Naaz
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
Santosh Barmaiya #jay
"अभिलाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
भारत का संविधान
भारत का संविधान
Shekhar Chandra Mitra
*
*"हलषष्ठी मैया'*
Shashi kala vyas
हिन्दी
हिन्दी
manjula chauhan
सिर की सफेदी
सिर की सफेदी
Khajan Singh Nain
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
Kbhi kbhi lagta h ki log hmara fayda uthate hai.
Kbhi kbhi lagta h ki log hmara fayda uthate hai.
Sakshi Tripathi
तुझे भूले कैसे।
तुझे भूले कैसे।
Taj Mohammad
भले उधार सही
भले उधार सही
Satish Srijan
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*बना शहर को गई जलाशय, दो घंटे बरसात (गीत)*
*बना शहर को गई जलाशय, दो घंटे बरसात (गीत)*
Ravi Prakash
"चार पैरों वाला मेरा यार"
Lohit Tamta
.........?
.........?
शेखर सिंह
प्यारी बहना
प्यारी बहना
Astuti Kumari
शस्त्र संधान
शस्त्र संधान
Ravi Shukla
ये इंसानी फ़ितरत है जनाब !
ये इंसानी फ़ितरत है जनाब !
पूर्वार्थ
फ़ितरत
फ़ितरत
Kavita Chouhan
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
Radhakishan R. Mundhra
मचलते  है  जब   दिल  फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
मचलते है जब दिल फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
डी. के. निवातिया
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
Gouri tiwari
Loading...