Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

“पहचान”

“पहचान”
मेरा हुनर ही मेरी पहचान है
वर्ना सारी कायनात में
मेरे नाम के तो हजारों हैं।

1 Like · 1 Comment · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
ख़बर है आपकी ‘प्रीतम’ मुहब्बत है उसे तुमसे
ख़बर है आपकी ‘प्रीतम’ मुहब्बत है उसे तुमसे
आर.एस. 'प्रीतम'
*मेरे पापा*
*मेरे पापा*
Shashi kala vyas
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
Ranjeet kumar patre
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
*अशोक कुमार अग्रवाल : स्वच्छता अभियान जिनका मिशन बन गया*
*अशोक कुमार अग्रवाल : स्वच्छता अभियान जिनका मिशन बन गया*
Ravi Prakash
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हौसला
हौसला
Monika Verma
आकाश से आगे
आकाश से आगे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
कैसी ये पीर है
कैसी ये पीर है
Dr fauzia Naseem shad
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
Manisha Manjari
2711.*पूर्णिका*
2711.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
Santosh Soni
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दो हज़ार का नोट
दो हज़ार का नोट
Dr Archana Gupta
वक्त, बेवक्त मैं अक्सर तुम्हारे ख्यालों में रहता हूं
वक्त, बेवक्त मैं अक्सर तुम्हारे ख्यालों में रहता हूं
Nilesh Premyogi
जो तू नहीं है
जो तू नहीं है
हिमांशु Kulshrestha
■ प्रसंगवश....
■ प्रसंगवश....
*प्रणय प्रभात*
स्तंभ बिन संविधान
स्तंभ बिन संविधान
Mahender Singh
तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार
तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार
gurudeenverma198
टूटकर, बिखर कर फ़िर सवरना...
टूटकर, बिखर कर फ़िर सवरना...
Jyoti Khari
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
याद आती हैं मां
याद आती हैं मां
Neeraj Agarwal
संवेदना सुप्त हैं
संवेदना सुप्त हैं
Namrata Sona
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जय माता दी
जय माता दी
Raju Gajbhiye
Loading...