Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 2 min read

*पश्चाताप*

सृजक – डा. अरुण कुमार शास्त्री
विषय – ऋण
शीर्षक – पश्चाताप
विधा – छंद मुक्त तुकांत कविता

ऋण कर्ता रोता सदा , मुक्त कभी न होय ।।
मुक्त अगर हो जाए तो , ग्लानि से हिय ढोय ।।
ज्ञान, मान और शान का , ऋण ही शोषक होय ।।
शीश उठा चल न सके , जग में दंडित होय ।।
ऋण का कीड़ा मानिए , देह दिमाग को खाए ।।
घुन कनक को चाटता , ऐसा घुसता जाए रे भैय्या ।।
ऐसा घुसता जाए, मानुष राखे धीर जो ।
ऋण से बच वो पाए , अपनी चादर देख के ।
तेते पॉव फैलाए रे भैय्या , तेते पॉव फैलाए
संतोषी संसार में , रहता सुख से जान ।।
देख पराई चूपड़ी , देता तनिक न ध्यान रे भैय्या ।।
देता तनिक न ध्यान,
उंच नीच चलती रहती है आज सदा न रहता आज ।
जो सोच बदलता अपनी , वही तो कहलाता उस्ताद ।
हमने अपने प्रयास से , भारत का निर्माण किया ।
हाथ से हाथ मिला तो भाइयों सुन्दर सफल समाज हुआ ।
कर्म के काजे सब सधे सिद्ध कार्य सब होएँगे ।
राहू केतु जब मिल बैठाएंगे भाग्य के बंधन खुल जाएँगे ।
सोमवार दिन भोले शंकर मंगलवार दिन संकटमोचन ।
बुध काम शुद्ध के लिए वीर को गुरु जी का आशीष पाएँगे ।
शुक्र केरे तो सुख संसाधन , शनि कर्म महान ।
रवि वार को पिकनिक जाएँ , सोम को फिर कर्तार ।
ऋण कर्ता रोता सदा , मुक्त कभी न होय ।।
मुक्त अगर हो जाए तो , ग्लानि से हिय ढोय ।।
ज्ञान, मान और शान का , ऋण ही शोषक होय ।।
शीश उठा चल न सके , जग में दंडित होय ।।

1 Like · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
*अहमब्रह्मास्मि9*
*अहमब्रह्मास्मि9*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इत्र, चित्र, मित्र और चरित्र
इत्र, चित्र, मित्र और चरित्र
Neelam Sharma
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
नरक और स्वर्ग
नरक और स्वर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अनेक रंग जिंदगी के
अनेक रंग जिंदगी के
Surinder blackpen
छंद -रामभद्र छंद
छंद -रामभद्र छंद
Sushila joshi
करीब हो तुम किसी के भी,
करीब हो तुम किसी के भी,
manjula chauhan
जिसको दिल में जगह देना मुश्किल बहुत।
जिसको दिल में जगह देना मुश्किल बहुत।
सत्य कुमार प्रेमी
या सरकारी बन्दूक की गोलियाँ
या सरकारी बन्दूक की गोलियाँ
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
चाँद
चाँद
Vandna Thakur
मोरनी जैसी चाल
मोरनी जैसी चाल
Dr. Vaishali Verma
विधा:
विधा:"चन्द्रकान्ता वर्णवृत्त" मापनी:212-212-2 22-112-122
rekha mohan
प्रकृति
प्रकृति
Mukesh Kumar Sonkar
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
अनमोल वचन
अनमोल वचन
Jitendra Chhonkar
बगिया
बगिया
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पता ही नहीं चलता यार
पता ही नहीं चलता यार
पूर्वार्थ
इंद्रधनुषी प्रेम
इंद्रधनुषी प्रेम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
विचारों में मतभेद
विचारों में मतभेद
Dr fauzia Naseem shad
तेरे भीतर ही छिपा,
तेरे भीतर ही छिपा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*कोटि-कोटि हे जय गणपति हे, जय जय देव गणेश (गीतिका)*
*कोटि-कोटि हे जय गणपति हे, जय जय देव गणेश (गीतिका)*
Ravi Prakash
तू खुद की इतनी तौहीन ना कर...
तू खुद की इतनी तौहीन ना कर...
Aarti sirsat
स्याह एक रात
स्याह एक रात
हिमांशु Kulshrestha
पकोड़े नालों की गेस से तलने की क्या जरूरत…? ये काम तो इन दिनो
पकोड़े नालों की गेस से तलने की क्या जरूरत…? ये काम तो इन दिनो
*प्रणय प्रभात*
धूल से ही उत्सव हैं,
धूल से ही उत्सव हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अदरक वाला स्वाद
अदरक वाला स्वाद
गुमनाम 'बाबा'
जीवन है आँखों की पूंजी
जीवन है आँखों की पूंजी
Suryakant Dwivedi
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...