Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

पर्यावरण दिवस

पवन, अरण्य जल, विरवे, सागर
नदी व ध्वनि का तरंग।
सकल धरा पर जो कुछ निर्मित,
पर्यावरण का अंग।

एक दूजे के पूरक है ये,
सब हैं बहुत जरूरी।
अगर संतुलन रहे न एक सम,
फिर विपदा मजबूरी।

सारे जड़ चेतन प्राणी गण,
पर्यावरण के साथ।
छेड़छाड़ करने में केवल,
मानव जन का हाथ।

हवा बिगाड़ा, नीर बिगाड़ा,
काट दिया सब वन।
धुंआ धुंआ कर किया विषैला,
पर्यावरण है सन्न।

वैज्ञानिक इतना कुछ खोजा,
सहज रीति हुई मन्द।
प्रकृति कराह रही है अब तो,
पैकेट में सब बंद।

एक वतन दूजे से रूठा,
सबमें रार ठना है।
अणु बम का भंडारण बढ़ गया,
नाश का द्वार बना है।

पर्यावरण को ऐसे सेवो,
अंड ज्यों सेवे परिंदा।
सुधी जनों जल्दी से चेतो,
तभी बचेंगे जिंदा।

एक नमूना दिया करोना,
हुआ था चक्का जाम।
अभी समय है जल्दी जागो,
नहीं तो काम तमाम।

केवल नारा काम न आये,
अमली जामा धारो।
पर्यावरण दिवस मंगल मय,
शुभकामना हमारो।

सतीश सृजन

400 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
भूरा और कालू
भूरा और कालू
Vishnu Prasad 'panchotiya'
💐प्रेम कौतुक-166💐
💐प्रेम कौतुक-166💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
Anil chobisa
जो भी पाना है उसको खोना है
जो भी पाना है उसको खोना है
Shweta Soni
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मर्यादा और राम
मर्यादा और राम
Dr Parveen Thakur
■ लघुकथा
■ लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
-- क्लेश तब और अब -
-- क्लेश तब और अब -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
ओनिका सेतिया 'अनु '
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
manjula chauhan
আমি তোমাকে ভালোবাসি
আমি তোমাকে ভালোবাসি
Otteri Selvakumar
3090.*पूर्णिका*
3090.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है  जब उसकी प्रेमि
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है जब उसकी प्रेमि
पूर्वार्थ
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
विमला महरिया मौज
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
Vishal babu (vishu)
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
gurudeenverma198
जिंदगी का ये,गुणा-भाग लगा लो ll
जिंदगी का ये,गुणा-भाग लगा लो ll
गुप्तरत्न
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
Ranjeet kumar patre
किताब
किताब
Lalit Singh thakur
ज़िद
ज़िद
Dr. Seema Varma
झूठे सपने
झूठे सपने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
Loading...