Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2023 · 1 min read

** पर्व दिवाली **

* मुक्तक *
~~
पर्व दिवाली का आया है, जगमग दीप जलाओ।
अंधकार है जहां कहीं भी, जल्दी दूर हटाओ।
भक्ति भाव का पर्व सुहाना, संदेश हमें देता।
भेदभावना दरकिनार कर, सबको गले लगाओ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
धन वैभव की करें कामना, आया पर्व दिवाली।
जगमग दीप जलाएं जब हो, रात अमावस काली।
भक्ति भाव से करें अर्चना, निश्छल निर्मल मन से।
करें समर्पित लक्ष्मी मां को, पूजन की शुभ थाली।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, मण्डी (हि.प्र.)

1 Like · 1 Comment · 76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
*खुशियों की सौगात*
*खुशियों की सौगात*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
World tobacco prohibition day
World tobacco prohibition day
Tushar Jagawat
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना।
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सनातन सँस्कृति
सनातन सँस्कृति
Bodhisatva kastooriya
वफा माँगी थी
वफा माँगी थी
Swami Ganganiya
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
Vishal babu (vishu)
विलीन
विलीन
sushil sarna
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-246💐
💐प्रेम कौतुक-246💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"पवित्र पौधा"
Dr. Kishan tandon kranti
डरने कि क्या बात
डरने कि क्या बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
संस्कार संस्कृति सभ्यता
संस्कार संस्कृति सभ्यता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
एक ही राम
एक ही राम
Satish Srijan
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
कवि दीपक बवेजा
मैंने तो ख़ामोश रहने
मैंने तो ख़ामोश रहने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
*
*"संकटमोचन"*
Shashi kala vyas
कवि को क्या लेना देना है !
कवि को क्या लेना देना है !
Ramswaroop Dinkar
संघर्ष
संघर्ष
विजय कुमार अग्रवाल
🙅बदली कहावत🙅
🙅बदली कहावत🙅
*Author प्रणय प्रभात*
"हृदय में कुछ ऐसे अप्रकाशित गम भी रखिए वक़्त-बेवक्त जिन्हें आ
दुष्यन्त 'बाबा'
प्रेम की बंसी बजे
प्रेम की बंसी बजे
DrLakshman Jha Parimal
2411.पूर्णिका
2411.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"ज़िंदगी जिंदादिली का नाम है, मुर्दादिल क्या खाक़ जीया करते है
Mukul Koushik
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
Shiv kumar Barman
🍁🌹🖤🌹🍁
🍁🌹🖤🌹🍁
शेखर सिंह
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
हमारा भारतीय तिरंगा
हमारा भारतीय तिरंगा
Neeraj Agarwal
कब तक बरसेंगी लाठियां
कब तक बरसेंगी लाठियां
Shekhar Chandra Mitra
Loading...