Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2023 · 1 min read

पर्यावरण

पर्यावरण संरक्षण हैं हम सब की जिम्मेदारी,
पेड़ से पेड़ लगाएं और धरा को सुंदर बनाएं,
एक पेड़ देता है सौ पुत्रों के बराबर सुख,
इसलिए पेड़ लगाओ और सुख अनुभूति पाओ।
………….
फलदार पेड़ होते हैं मनुष्य के सदा सहाई,
आम, नींबू, सेब, आडू, नाशपाती और खुमानी,
देते हैं पुत्रों के समान सुख,
फलदार पेड़ की डालियां सदैव झुकी रहती हैं,
मानो धरती पर उनके रोपण के लिए,
मानव जाति का धन्यवाद कर रही हो।
………….
मृदा संवर्धन के लिए भी पौधा रोपण है जरूरी,
धरा पर पेड़ होंगे तो मृदा कटाव नहीं हो पाएगा,
धरती हरी भरी होगी, तो वायु भी शुद्ध होगी,
और समाज का कल्याण संभव होगा।
…………..
तो आओ,
विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य पर प्रण लें,
05 जून को 05 पौधा रोपण करें और,
मानव होने का फर्ज अदा करें।

Language: Hindi
1 Like · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तन्हाई
तन्हाई
ओसमणी साहू 'ओश'
आजकल के परिवारिक माहौल
आजकल के परिवारिक माहौल
पूर्वार्थ
जिंदगी कि सच्चाई
जिंदगी कि सच्चाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बहर- 121 22 121 22 अरकान- मफ़उलु फ़ेलुन मफ़उलु फ़ेलुन
बहर- 121 22 121 22 अरकान- मफ़उलु फ़ेलुन मफ़उलु फ़ेलुन
Neelam Sharma
विश्व पर्यटन दिवस
विश्व पर्यटन दिवस
Neeraj Agarwal
अमिट सत्य
अमिट सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
कृष्णकांत गुर्जर
गीत
गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बसंती बहार
बसंती बहार
इंजी. संजय श्रीवास्तव
नवजात बहू (लघुकथा)
नवजात बहू (लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
DrLakshman Jha Parimal
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
3377⚘ *पूर्णिका* ⚘
3377⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
अगर मेघों से धरती की, मुलाकातें नहीं होतीं (मुक्तक)
अगर मेघों से धरती की, मुलाकातें नहीं होतीं (मुक्तक)
Ravi Prakash
वो बचपन था
वो बचपन था
Satish Srijan
आवाज़
आवाज़
Dipak Kumar "Girja"
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
किसी को उदास देखकर
किसी को उदास देखकर
Shekhar Chandra Mitra
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
"बेहतर दुनिया के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी तकलीफ़
मेरी तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
#कटाक्ष
#कटाक्ष
*प्रणय प्रभात*
* प्रीति का भाव *
* प्रीति का भाव *
surenderpal vaidya
वो शख्स लौटता नहीं
वो शख्स लौटता नहीं
Surinder blackpen
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...