Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

पर्यावरण-संरक्षण

सह-सह अत्याचार मनुष्य के हुई धरा बेहाल,
यहाँ-वहाँ पर आ रहे नित्य नये भूचाल,
नित्य नये भूचाल हिमालय डोल रहा है,
प्रकृति पर मानव-अत्याचार की परतें खोल रहा है,
भागीरथी में बह रहे बड़े-बड़े हिमखण्ड,
सूरज की किरणें भी अब होने लगी प्रचंड,
होने लगी प्रचंड धरा का ताप बढ़ा है,
प्रगति-प्रगति कह मानव विनाश के द्वार खड़ा है,
द्वार खड़ा कर रहा मन ही मन चिन्तन,
रहे सुरक्षित जो धरा तभी रहेगा जीवन,
प्रगति से भी पूर्व आवश्यक पर्यावरण-संरक्षण।

रचनाकार – कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत) ।
सर्वाधिकार, सुरक्षित(रचनाकार)।
दिनांक -२४/०१/२०१८.

Language: Hindi
262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
अंत में पैसा केवल
अंत में पैसा केवल
Aarti sirsat
हिंदी दिवस - विषय - दवा
हिंदी दिवस - विषय - दवा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सुबह का खास महत्व
सुबह का खास महत्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
Shyam Sundar Subramanian
ज़िम्मेदार कौन है??
ज़िम्मेदार कौन है??
Sonam Puneet Dubey
रुकना हमारा काम नहीं...
रुकना हमारा काम नहीं...
AMRESH KUMAR VERMA
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" मुशाफिर हूँ "
Pushpraj Anant
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
Rj Anand Prajapati
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेरे बिना
तेरे बिना
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
इक तमन्ना थी
इक तमन्ना थी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खामोशियां मेरी आवाज है,
खामोशियां मेरी आवाज है,
Stuti tiwari
#विभाजन_विभीषिका_स्मृति_दिवस
#विभाजन_विभीषिका_स्मृति_दिवस
Ravi Prakash
दरख़्त और व्यक्तित्व
दरख़्त और व्यक्तित्व
Dr Parveen Thakur
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
SuNo...
SuNo...
Vishal babu (vishu)
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
भ्रात प्रेम का रूप है,
भ्रात प्रेम का रूप है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बुझ गयी
बुझ गयी
sushil sarna
"यह कैसा दौर?"
Dr. Kishan tandon kranti
अधूरी मोहब्बत की कशिश में है...!!!!
अधूरी मोहब्बत की कशिश में है...!!!!
Jyoti Khari
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
Manisha Manjari
2439.पूर्णिका
2439.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रश्न –उत्तर
प्रश्न –उत्तर
Dr.Priya Soni Khare
मातृ भाषा हिन्दी
मातृ भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
Shivkumar Bilagrami
Loading...