Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 2 min read

परिवार होना चाहिए

जैसे हर एक कड़ी के जुड़ने से, अटूट श्रृंखला का निर्माण होता है।
ठीक वैसे प्राणियों के संवाद से, जीवित सभ्यता का भान होता है।
यहाँ हर व्यक्ति के जीवन में, बस खुशियों का संसार होना चाहिए।
हर प्रकार की परिस्थितियों में, सबके संग में परिवार होना चाहिए।

स्वावलंबी व प्राइवेसी की आड़ में छिपा, मनुष्य बड़ा ही शातिर है।
परिवार समाप्ति की ओर अग्रसर, आज यह तासीर जगजाहिर है।
हर मनुष्य ही सच बोलेगा, अभिव्यक्ति का अधिकार होना चाहिए।
हर प्रकार की परिस्थितियों में, सबके संग में परिवार होना चाहिए।

यूॅं शहरीकरण के दानव ने, ग्रामीण-परिवेश को विलुप्त कर दिया।
शहर गए हर एक ग्रामीण को, चिरकाल निद्रा में सुषुप्त कर दिया।
अंततः यह बात माननी पड़ेगी, अब और न प्रतिकार होना चाहिए।
हर प्रकार की परिस्थितियों में, सबके संग में परिवार होना चाहिए।

साथ में परिवार की शक्ति बढ़ती, सबके सुख-दुःख साझा होते हैं।
बुजुर्ग सलाहकार, बड़े रक्षक और सभी छोटे सदस्य राजा होते हैं।
समूह में एकता का बल है, ये कथन सबको स्वीकार होना चाहिए।
हर प्रकार की परिस्थितियों में, सबके संग में परिवार होना चाहिए।

हर चुप्पी को संवाद ही तोड़े, दिल एकांत से समूह में मुड़ने लगेगा।
व्यवहार के ससंजन बल से, बिखरा घर-परिवार भी जुड़ने लगेगा।
जो सबको जोड़कर रखे, वाणी-विचार में वो संस्कार होना चाहिए।
हर प्रकार की परिस्थितियों में, सबके संग में परिवार होना चाहिए।

परिवार बनाने से लेकर बचाने तक, हर क्षण परीक्षा का पर्याय है।
भंग होने के भय से लेकर जय तक, हर रण समीक्षा का पर्याय है।
सर्वगुण संपन्न न बनो, न सही, किंतु मन में सदाचार होना चाहिए।
हर प्रकार की परिस्थितियों में, सबके संग में परिवार होना चाहिए।

4 Likes · 123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
View all
You may also like:
दुआ
दुआ
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
धर्म और सिध्दांत
धर्म और सिध्दांत
Santosh Shrivastava
भले कठिन है ज़िन्दगी, जीना खुलके यार
भले कठिन है ज़िन्दगी, जीना खुलके यार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
Sanjay ' शून्य'
मेनका की ‘मी टू’
मेनका की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वृक्ष किसी को
वृक्ष किसी को
DrLakshman Jha Parimal
"चाहत का सफर"
Dr. Kishan tandon kranti
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
Anand Kumar
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
२०२३ में विपक्षी दल, मोदी से घवराए
२०२३ में विपक्षी दल, मोदी से घवराए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
24/225. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/225. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये कैसे आदमी है
ये कैसे आदमी है
gurudeenverma198
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
Atul "Krishn"
बाबा केदारनाथ जी
बाबा केदारनाथ जी
Bodhisatva kastooriya
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
दबे पाँव
दबे पाँव
Davina Amar Thakral
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
कितना दर्द सिमट कर।
कितना दर्द सिमट कर।
Taj Mohammad
श्रीराम किसको चाहिए..?
श्रीराम किसको चाहिए..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"शीशा और रिश्ता बड़े ही नाजुक होते हैं
शेखर सिंह
😢स्मृति शेष / संस्मरण
😢स्मृति शेष / संस्मरण
*प्रणय प्रभात*
*अब लिखो वह गीतिका जो, प्यार का उपहार हो (हिंदी गजल)*
*अब लिखो वह गीतिका जो, प्यार का उपहार हो (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दुनिया अब व्यावसायिक हो गई है,रिश्तों में व्यापार का रंग घुल
दुनिया अब व्यावसायिक हो गई है,रिश्तों में व्यापार का रंग घुल
पूर्वार्थ
* संसार में *
* संसार में *
surenderpal vaidya
Loading...