Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

“परिवर्तन”

“परिवर्तन”
परिवर्तन
चाहे कोई भी हों
वो कभी आसान नहीं होता,
लेकिन
वो असम्भव भी नहीं होता।

8 Likes · 3 Comments · 108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
निर्मेष के दोहे
निर्मेष के दोहे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
घर नही है गांव में
घर नही है गांव में
Priya Maithil
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
सत्य कुमार प्रेमी
गलतियां सुधारी जा सकती है,
गलतियां सुधारी जा सकती है,
Tarun Singh Pawar
Bundeli Doha - birra
Bundeli Doha - birra
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"प्यार"
Dr. Kishan tandon kranti
नानी की कहानी होती,
नानी की कहानी होती,
Satish Srijan
2658.*पूर्णिका*
2658.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ मुक्तक-
■ मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
हे ! अम्बुज राज (कविता)
हे ! अम्बुज राज (कविता)
Indu Singh
When winter hugs
When winter hugs
Bidyadhar Mantry
*हुआ गणेश चतुर्थी के दिन, संसद का श्री गणेश (गीत)*
*हुआ गणेश चतुर्थी के दिन, संसद का श्री गणेश (गीत)*
Ravi Prakash
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
कब भोर हुई कब सांझ ढली
कब भोर हुई कब सांझ ढली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देख इंसान कहाँ खड़ा है तू
देख इंसान कहाँ खड़ा है तू
Adha Deshwal
" हैं पलाश इठलाये "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
गणेश चतुर्थी
गणेश चतुर्थी
Surinder blackpen
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गांव और वसंत
गांव और वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
***
*** " आधुनिकता के असर.......! " ***
VEDANTA PATEL
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
पूर्वार्थ
मन में मदिरा पाप की,
मन में मदिरा पाप की,
sushil sarna
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
लक्ष्मी सिंह
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
Manisha Manjari
माया का रोग (व्यंग्य)
माया का रोग (व्यंग्य)
नवीन जोशी 'नवल'
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
कभी लौट गालिब देख हिंदुस्तान को क्या हुआ है,
कभी लौट गालिब देख हिंदुस्तान को क्या हुआ है,
शेखर सिंह
चार लोग क्या कहेंगे?
चार लोग क्या कहेंगे?
करन ''केसरा''
Loading...