Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

परिणति

कुंठित भावना , निरर्थक कामना ,

शोषित मनुष्यत्व ,त्रस्त भंगुर अस्तित्व ,

छद्म लालसा, आभासी आशा, ,

कपटपूर्ण व्यवहार, विस्तृत अनाचार ,

सत्य कठोर , असत्य भावविभोर ,

मंतव्य कलुषित , न्याय वंचित ,

धूमिल संज्ञान प्रकाश ,अच्छादित अंधविश्वास,

स्व महिमा मंडित, आत्मविश्वास खंडित ,

कल्पित धारणा, तर्कहीन विचारणा ,

मनस भावातिरेक , निष्पंद विवेक ,

सुप्त वीरता, निर्भीक आतता ,

लुप्त आस्था, व्याप्त धर्मांधता,

निष्ठा खंडित,चाटुकारिता उदित,

प्रगति समाप्त , अधोगति उदात्त ।

2 Likes · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
विश्वपर्यावरण दिवस पर -दोहे
विश्वपर्यावरण दिवस पर -दोहे
डॉक्टर रागिनी
"हमारे नेता "
DrLakshman Jha Parimal
Dear me
Dear me
पूर्वार्थ
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
सारे  ज़माने  बीत  गये
सारे ज़माने बीत गये
shabina. Naaz
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
Harminder Kaur
आजा आजा रे कारी बदरिया
आजा आजा रे कारी बदरिया
Indu Singh
यह मेरी मजबूरी नहीं है
यह मेरी मजबूरी नहीं है
VINOD CHAUHAN
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पौधरोपण
पौधरोपण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पिया घर बरखा
पिया घर बरखा
Kanchan Khanna
मेघों का मेला लगा,
मेघों का मेला लगा,
sushil sarna
अपार ज्ञान का समंदर है
अपार ज्ञान का समंदर है "शंकर"
Praveen Sain
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
Manisha Manjari
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
Sangeeta Beniwal
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
कवि रमेशराज
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
Rajesh Kumar Arjun
समूह
समूह
Neeraj Agarwal
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
*देखो मन में हलचल लेकर*
*देखो मन में हलचल लेकर*
Dr. Priya Gupta
लोगो समझना चाहिए
लोगो समझना चाहिए
शेखर सिंह
अस्तित्व पर अपने अधिकार
अस्तित्व पर अपने अधिकार
Dr fauzia Naseem shad
यूं ही नहीं कहते हैं इस ज़िंदगी को साज-ए-ज़िंदगी,
यूं ही नहीं कहते हैं इस ज़िंदगी को साज-ए-ज़िंदगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
★साथ तेरा★
★साथ तेरा★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
कितना प्यारा कितना पावन
कितना प्यारा कितना पावन
जगदीश लववंशी
3056.*पूर्णिका*
3056.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...