Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2023 · 1 min read

“परिंदे की अभिलाषा”

डॉ लक्ष्मण झा परिमल

==================

मुझे दूर क्षितिज में उड़ने दो

जो मन करता है करने दो

ना रोको ना टोको मुझको

मुझे नील गगन को छूने दो

मैं उड़ना चाहूँ देश देश

दीवारें हमको ना रोके

भेद नहीं करना आता

कोई मुझे कितना टोके

उड़ उड़ कर जग में घूमने दो

सब धरती को मुझे चूमने दो

ना रोको ना टोको मुझको

मुझे नील गगन को छूने दो

संदेश प्यार का देना है

बीज शांती का बोना है

नफरत को दूर भगाके

प्रगति केवल चुनना है

बात मुझे सबको समझने दो

खुशिओं के पल तो आने दो

ना रोको ना टोको मुझको

मुझे नील गगन को छूने दो

भाषाएं हैं अलग अलग

फिरभी सबको जानते हैं

वेष हमारे अलग थलग

लोगों को पहचानते हैं

उनलोगों में प्यार बढ़ाने दो

नफरत की दीवार गिरने दो

ना रोको ना टोको मुझको

मुझे नील गगन को छूने दो

जगमें हो सबका विकास

कोई बँचित ना रह पाए

पर ध्यान रहे कार्बन का

उत्सर्जन कभी ना हो पाए

मुझे प्रकृति के गुण गाने दो

पर्यावरण मंत्र को सुनने दो

ना रोको ना टोको मुझको

मुझे नील गगन को छूने दो

मुझे दूर क्षितिज में उड़ने दो

जो मन करता है करने दो

ना रोको ना टोको मुझको

मुझे नील गगन को छूने दो !!

============

डॉ लक्ष्मण झा”परिमल ”

साउंड हेल्थ क्लिनिक

एस ० पी ० कॉलेज रोड

दुमका

झारखण्ड

भारत

26.12.2023

Language: Hindi
116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*खड़ी हूँ अभी उसी की गली*
*खड़ी हूँ अभी उसी की गली*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
manjula chauhan
ऐसे थे पापा मेरे ।
ऐसे थे पापा मेरे ।
Kuldeep mishra (KD)
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
वृद्धाश्रम इस समस्या का
वृद्धाश्रम इस समस्या का
Dr fauzia Naseem shad
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
Dr MusafiR BaithA
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
कृष्णकांत गुर्जर
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
तस्वीरों में मुस्कुराता वो वक़्त, सजा यादों की दे जाता है।
तस्वीरों में मुस्कुराता वो वक़्त, सजा यादों की दे जाता है।
Manisha Manjari
नारी जागरूकता
नारी जागरूकता
Kanchan Khanna
23/40.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/40.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं नहीं तो, मेरा अंश ,काम मेरा यह करेगा
मैं नहीं तो, मेरा अंश ,काम मेरा यह करेगा
gurudeenverma198
"जिन्दाबाद"
Dr. Kishan tandon kranti
श्री राम जय राम।
श्री राम जय राम।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
संगति
संगति
Buddha Prakash
"सुसु के डैडी"
*Author प्रणय प्रभात*
सियासत
सियासत
हिमांशु Kulshrestha
फिर मिलेंगें
फिर मिलेंगें
साहित्य गौरव
💐Prodigy Love-14💐
💐Prodigy Love-14💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जनेऊधारी,
जनेऊधारी,
Satish Srijan
ਪਰਦੇਸ
ਪਰਦੇਸ
Surinder blackpen
*ऋषि (बाल कविता)*
*ऋषि (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कभी सुलगता है, कभी उलझता  है
कभी सुलगता है, कभी उलझता है
Anil Mishra Prahari
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
Just in case no one has told you this today, I’m so proud of
Just in case no one has told you this today, I’m so proud of
पूर्वार्थ
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
Rekha khichi
हम यहाँ  इतने दूर हैं  मिलन कभी होता नहीं !
हम यहाँ इतने दूर हैं मिलन कभी होता नहीं !
DrLakshman Jha Parimal
Loading...