Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2024 · 2 min read

पराया हुआ मायका

उसके हाथ से था वो बनाया हुआ मायका
उसकी ही चहक से चहचहाया हुआ मायका
फिर एक दिन पिया के संग हो विदा चली गई
एक पल में अपना से पराया हुआ मायका

वो मायका जहां जनम उसको दिया था मात ने
दुलारा था हरदम जहां था दादा – दादी तात ने
वो मायका जहां पे वो पली-बढ़ी जवां हुई
खट्टी-मीठी यादों से पलभर में ही जुदा हुई
बचपन से जवानी तलक बिताया हुआ मायका
एक पल में अपना से पराया हुआ मायका

सखियों और सहेलियों के संग खेली थी जहां
दीवाली- पटाखे होली के रंग खेली थी जहां
खुशियां थी बिखेरती परिवार की हंसी थी वो
घर के कोने-कोने में गहराई तक बसी थी वो
उसके होने से सबल कराया हुआ मायका
एक पल में अपना से पराया हुआ मायका

भाईयों-बहनो के संग बेबाकियों का दौर था
तनाव,गम,दुखों का कहीं दूर तक न ठौर था
आते थे रिश्तेदार सब,और थे बुलाते सभी
भाते जो मन को सदा थे रिश्ते व नाते सभी
मन से सारे रिश्तों को निभाया हुआ मायका
एक पल में अपना से पराया हुआ मायका

आज जब चली तो जैसे रोने पूरा घर लगा
हो गई व्यथित जमीं और कांपने अंबर लगा
कल तलक करते थे जो झगडे़ सभी रोने लगे
आंगन भी लगा रोने और कमरे सभी रोने लगे
रुखसती पे लग रहा दुखाया हुआ मायका
एक पल में अपना से पराया हुआ मायका

शायद न बुना जाएगा पहले सा ताना-बाना अब
जा रही ससुराल है वो जाने होगा आना कब
ताकती हर मुंह है वो बेजुबानों की तरह
आ भी पाएगी तो अब मेहमानों की तरह
शादी की डोर के लिए गंवाया हुआ मायका
एक पल में अपना से पराया हुआ मायका

विक्रम कुमार
मनोरा , वैशाली

1 Like · 635 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विश्व हुआ है  राममय,  गूँज  सुनो  चहुँ ओर
विश्व हुआ है राममय, गूँज सुनो चहुँ ओर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
AVINASH (Avi...) MEHRA
दिखावा
दिखावा
Swami Ganganiya
सेल्फी जेनेरेशन
सेल्फी जेनेरेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
Vedha Singh
2867.*पूर्णिका*
2867.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्ता
रिश्ता
अखिलेश 'अखिल'
मुक्तक
मुक्तक
Mahender Singh
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
Ravi Prakash
शिव शून्य है,
शिव शून्य है,
पूर्वार्थ
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
Rj Anand Prajapati
दर्द का बस एक
दर्द का बस एक
Dr fauzia Naseem shad
वेला
वेला
Sangeeta Beniwal
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
डी. के. निवातिया
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
Shyam Sundar Subramanian
वक्त कितना भी बुरा हो,
वक्त कितना भी बुरा हो,
Dr. Man Mohan Krishna
भगवान बचाए ऐसे लोगों से। जो लूटते हैं रिश्तों के नाम पर।
भगवान बचाए ऐसे लोगों से। जो लूटते हैं रिश्तों के नाम पर।
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी
जिंदगी
विजय कुमार अग्रवाल
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
वफ़ा की परछाईं मेरे दिल में सदा रहेंगी,
वफ़ा की परछाईं मेरे दिल में सदा रहेंगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरी कानपुर से नई दिल्ली की यात्रा का वृतान्त:-
मेरी कानपुर से नई दिल्ली की यात्रा का वृतान्त:-
Adarsh Awasthi
रमेशराज की पद जैसी शैली में तेवरियाँ
रमेशराज की पद जैसी शैली में तेवरियाँ
कवि रमेशराज
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
-- अजीत हूँ --
-- अजीत हूँ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"रिश्तों का विस्तार"
Dr. Kishan tandon kranti
गुज़रा हुआ वक्त
गुज़रा हुआ वक्त
Surinder blackpen
"शीशा और रिश्ता बड़े ही नाजुक होते हैं
शेखर सिंह
Loading...