Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2017 · 1 min read

🚩परशु-धार-सम ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति

परशु-धार सम-ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति
के शुभ सुंदर मिलन-सम परशुराम की नीति|
सदा बीरता की सुगति, सहित सघन शिव-भक्त |
इसीलिए तो हो गई, अमर,कीर्ति-प्रभुरीति|
…………………………………………………….

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

आप सभी को भगवान परशुराम जयन्ती पर अनंत हार्दिक शुभकामनाएं |

28 अप्रैल 2017

Language: Hindi
611 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak

You may also like:
हृद्-कामना....
हृद्-कामना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"मन भी तो पंछी ठहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
खूबसूरत बुढ़ापा
खूबसूरत बुढ़ापा
Surinder blackpen
कहीं और हँसके खुशियों का इज़हार करते हैं ,अपनों से उखड़े रहकर
कहीं और हँसके खुशियों का इज़हार करते हैं ,अपनों से उखड़े रहकर
DrLakshman Jha Parimal
शिक्षा (Education) (#नेपाली_भाषा)
शिक्षा (Education) (#नेपाली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Unlock your dreams
Unlock your dreams
Nupur Pathak
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
🚩🚩 रचनाकार का परिचय/
🚩🚩 रचनाकार का परिचय/"पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गजल
गजल
Vijay kumar Pandey
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गौतम बुद्ध रूप में इंसान ।
गौतम बुद्ध रूप में इंसान ।
Buddha Prakash
ये रिश्ते हैं।
ये रिश्ते हैं।
Taj Mohammad
लोकतंत्र का मंत्र
लोकतंत्र का मंत्र
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
"मेरे हमसफर"
Ekta chitrangini
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
Shyam Pandey
खुशी और गम
खुशी और गम
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
आज हम याद करते
आज हम याद करते
अनिल अहिरवार
" जुदाई "
Aarti sirsat
💐प्रेम कौतुक-252💐
💐प्रेम कौतुक-252💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक्त रहते सम्हल जाओ ।
वक्त रहते सम्हल जाओ ।
Nishant prakhar
रात्रि पहर की छुटपुट चोरी होते सुखद सबेरे थे।
रात्रि पहर की छुटपुट चोरी होते सुखद सबेरे थे।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
Vishal babu (vishu)
*
*"रोटी"*
Shashi kala vyas
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
Satish Srijan
खाई रोटी घास की,अकबर को ललकार(कुंडलिया)
खाई रोटी घास की,अकबर को ललकार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
मुझे लगता था
मुझे लगता था
ruby kumari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दर्दे दिल की दुआ , दवा , किस से मांगू
दर्दे दिल की दुआ , दवा , किस से मांगू
श्याम सिंह बिष्ट
Loading...