Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2024 · 1 min read

परमात्मा

#परमात्मा

प्रेम भक्ति शांति का रखिये वास।
परोपकार त्याग से तृप्त होती आत्मा।।

हर घड़ी परमात्मा रहते आसपास।
सुखः दुखः को शीतल देखे आत्मा।।

दर्द भरे जीवन का प्रवास।
हर बिमारीयों का हो खात्मा।।

निरंतर रख लो भक्ति प्रवास।
हर पल कृपा करें परमात्मा।।

सम आते हैं सब बच्चों को रास।
कोई भेद ना रखते परमात्मा।।

धरती पर होगा ब्रम्हांड प्रवास।
भक्ति में तल्लीन रख लो आत्मा।।

शुद्ध आचरण धरो कास।
जरुर रुक जाये परमात्मा।।

प्राणी पीड़ित पर दया निवास।
वहां स्वयं प्रकटते परमात्मा।।

स्वरचित मौलिक – कृष्णा वाघमारे, जालना, महाराष्ट्र.

Language: Hindi
28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यार
प्यार
Kanchan Khanna
घर पर घर
घर पर घर
Surinder blackpen
चुपचाप सा परीक्षा केंद्र
चुपचाप सा परीक्षा केंद्र"
Dr Meenu Poonia
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कुछ लोग अच्छे होते है,
कुछ लोग अच्छे होते है,
Umender kumar
आज की शाम।
आज की शाम।
Dr. Jitendra Kumar
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
surenderpal vaidya
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
Dr. Harvinder Singh Bakshi
रमेशराज की एक हज़ल
रमेशराज की एक हज़ल
कवि रमेशराज
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
ईच्छा का त्याग -  राजू गजभिये
ईच्छा का त्याग - राजू गजभिये
Raju Gajbhiye
Only attraction
Only attraction
Bidyadhar Mantry
क्या देखा
क्या देखा
Ajay Mishra
बेटी
बेटी
Vandna Thakur
*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
Paras Nath Jha
HAPPINESS!
HAPPINESS!
R. H. SRIDEVI
मित्रता
मित्रता
Shashi Mahajan
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
समा गये हो तुम रूह में मेरी
समा गये हो तुम रूह में मेरी
Pramila sultan
राह दिखा दो मेरे भगवन
राह दिखा दो मेरे भगवन
Buddha Prakash
नींद आने की
नींद आने की
हिमांशु Kulshrestha
😊एक दुआ😊
😊एक दुआ😊
*प्रणय प्रभात*
मत मन को कर तू उदास
मत मन को कर तू उदास
gurudeenverma198
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
गुमनाम 'बाबा'
सच तो रंग होते हैं।
सच तो रंग होते हैं।
Neeraj Agarwal
"कविता क्या है?"
Dr. Kishan tandon kranti
2585.पूर्णिका
2585.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
Loading...