Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

नई शुरुआत

रचना का विषय : नई शुरुआत
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
नई शुरुआत तो हर सुबह होती है
हम सभी सोच हर पल बदलती हैं
नई शुरुआत तो जीवन का सार कहती है।
आज धूप तो कल छांव होती है।
हम जीवन को अपना कहते हैं।
नई शुरुआत का मंथन हम बनते हैं।
स्वार्थ जीवन का अपना मोल कहता हैं।
सच तो नई शुरुआत होती है।
हम एक दूसरे के मान सम्मान करते है।
नई शुरुआत तो जीवन भर होती है।
हॉ रंगमंच में नित्य हम नई शुरुआत करते है।
एक दूसरे के सच सहयोग करते हैं। बस नई शुरुआत हम अपनी करते हैं।
================
नीरज अग्रवाल चंदौसी उप्र

Language: Hindi
416 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
manjula chauhan
Drapetomania
Drapetomania
Vedha Singh
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां  पर आपको उपस्थित ह
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां पर आपको उपस्थित ह
Rj Anand Prajapati
अलविदा नहीं
अलविदा नहीं
Pratibha Pandey
ख्वाबों में मिलना
ख्वाबों में मिलना
Surinder blackpen
मित्र होना चाहिए
मित्र होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
SAARC Summit to be held in Nepal on 05 May, dignitaries to be honoured
SAARC Summit to be held in Nepal on 05 May, dignitaries to be honoured
World News
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
Dinesh Kumar Gangwar
वो तो है ही यहूद
वो तो है ही यहूद
shabina. Naaz
स्थापित भय अभिशाप
स्थापित भय अभिशाप
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
वैमनस्य का अहसास
वैमनस्य का अहसास
Dr Parveen Thakur
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
शेखर सिंह
देख कर
देख कर
Santosh Shrivastava
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
नवीन जोशी 'नवल'
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Anu dubey
समलैंगिकता-एक मनोविकार
समलैंगिकता-एक मनोविकार
मनोज कर्ण
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
पूर्वार्थ
3293.*पूर्णिका*
3293.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संगत
संगत
Sandeep Pande
बोला लड्डू मैं बड़ा, रसगुल्ला बेकार ( हास्य कुंडलिया )
बोला लड्डू मैं बड़ा, रसगुल्ला बेकार ( हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
निंदा
निंदा
Dr fauzia Naseem shad
"अनमोल"
Dr. Kishan tandon kranti
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हमने तो उड़ान भर ली सूरज को पाने की,
हमने तो उड़ान भर ली सूरज को पाने की,
Vishal babu (vishu)
So, blessed by you , mom
So, blessed by you , mom
Rajan Sharma
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
*प्यार या एहसान*
*प्यार या एहसान*
Harminder Kaur
Loading...