Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-428💐

पयामों के गुलशन खिलाएँगे वो बस,
आहिस्ता से हमें भुलाएँगे ही वो बस,
यह सब याद रह जाएँगी सिर्फ़ यादें,
अब से दूरियों को ही बढ़ाएंगे वो बस।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
42 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
*दुआओं का असर*
*दुआओं का असर*
Shashi kala vyas
# नमस्कार .....
# नमस्कार .....
Chinta netam " मन "
छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई
छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई
Pravesh Shinde
न गिराओ हवाओं मुझे , औकाद में रहो
न गिराओ हवाओं मुझे , औकाद में रहो
कवि दीपक बवेजा
छू लेगा बुलंदी को तेरा वजूद अगर तुझमे जिंदा है
छू लेगा बुलंदी को तेरा वजूद अगर तुझमे जिंदा है
'अशांत' शेखर
हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे
हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे
Anand Sharma
क़यामत
क़यामत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
उम्मीद
उम्मीद
Dr. Rajiv
खिल जाए अगर कोई फूल चमन मे
खिल जाए अगर कोई फूल चमन मे
shabina. Naaz
दो अक्षर का शब्द है , सबसे सुंदर प्रीत (कुंडलिया)
दो अक्षर का शब्द है , सबसे सुंदर प्रीत (कुंडलिया)
Ravi Prakash
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
विश्वास का धागा
विश्वास का धागा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ अमर बलिदानी तात्या टोपे
■ अमर बलिदानी तात्या टोपे
*Author प्रणय प्रभात*
शिव स्तुति
शिव स्तुति
Shivkumar Bilagrami
"नींद का देवता"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम इश्क लिखना,
तुम इश्क लिखना,
Adarsh Awasthi
हो समर्पित जीत तुमको
हो समर्पित जीत तुमको
DEVESH KUMAR PANDEY
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
लिखने से रह गये
लिखने से रह गये
Dr fauzia Naseem shad
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
Dr Archana Gupta
💐प्रेम कौतुक-422💐
💐प्रेम कौतुक-422💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Bhuneshwar Sinha Congress leader Chhattisgarh. bhuneshwar sinha politician chattisgarh
Bhuneshwar Sinha Congress leader Chhattisgarh. bhuneshwar sinha politician chattisgarh
Bramhastra sahityapedia
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
नींद में गहरी सोए हैं
नींद में गहरी सोए हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिये
जिये
विजय कुमार नामदेव
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
Charu Mitra
मानव तेरी जय
मानव तेरी जय
Sandeep Pande
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
डी. के. निवातिया
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
गुप्तरत्न
Loading...