Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)

पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल (कुंडलिया)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
पद का मद सबसे बड़ा , खुद को जाता भूल
हवा भरी ज्यों हो गया , गुब्बारे – सा फूल
गुब्बारे – सा फूल , न सीधे मुँह बतियाता
अपनों पर भी धौंस , जमाता है गरियाता
कहते रवि कविराय ,हुआ फिर बौने कद का
पाँच साल के बाद ,छिना फिर जलवा पद का
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
मद = घमंड ,अहंकार
गरियाता = अपशब्द कहता
धौंस जमाता = प्रभुत्व स्थापित करता
“””””””””””””””””””””'””””””””””'”””””””””
रचयिता : रवि प्रकाश, बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

366 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ख़्वाब टूटा
ख़्वाब टूटा
Dr fauzia Naseem shad
असुर सम्राट भक्त प्रहलाद – पूर्वजन्म की कथा – 03
असुर सम्राट भक्त प्रहलाद – पूर्वजन्म की कथा – 03
Kirti Aphale
हर बार धोखे से धोखे के लिये हम तैयार है
हर बार धोखे से धोखे के लिये हम तैयार है
manisha
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
manjula chauhan
2280.पूर्णिका
2280.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पापा के परी
पापा के परी
जय लगन कुमार हैप्पी
विश्वपर्यावरण दिवस पर -दोहे
विश्वपर्यावरण दिवस पर -दोहे
डॉक्टर रागिनी
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
Dushyant Kumar Patel
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
Er.Navaneet R Shandily
■ महसूस करें तो...
■ महसूस करें तो...
*Author प्रणय प्रभात*
तानाशाह के मन में कोई बड़ा झाँसा पनप रहा है इन दिनों। देशप्र
तानाशाह के मन में कोई बड़ा झाँसा पनप रहा है इन दिनों। देशप्र
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"कूँचे गरीब के"
Ekta chitrangini
छिपी रहती है दिल की गहराइयों में ख़्वाहिशें,
छिपी रहती है दिल की गहराइयों में ख़्वाहिशें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
Neelam Sharma
अनमोल आँसू
अनमोल आँसू
Awadhesh Singh
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
ruby kumari
"सच और झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
" जब तुम्हें प्रेम हो जाएगा "
Aarti sirsat
मां
मां
Dr Parveen Thakur
@घर में पेड़ पौधे@
@घर में पेड़ पौधे@
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सब्र का फल
सब्र का फल
Bodhisatva kastooriya
और क्या कहूँ तुमसे मैं
और क्या कहूँ तुमसे मैं
gurudeenverma198
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
विमला महरिया मौज
संपूर्ण कर्म प्रकृति के गुणों के द्वारा किये जाते हैं तथापि
संपूर्ण कर्म प्रकृति के गुणों के द्वारा किये जाते हैं तथापि
Raju Gajbhiye
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
Phool gufran
Loading...