Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

पथ प्रदर्शक पिता

पिता हमारा जीवन दाता
वह हमें इस संसार में लाता
पिता बिना जीवन असंभव
करते वह सब कुछ संभव
पिता विशाल बरगद की छांँव
जिसकी छाया में हमारा ठाँव
पिता संसार सागर का खेवईया
उन पर निर्भर हमारी जीवन नैया
पिता हमारे पथ प्रदर्शक
उनसे ही है जीवन सार्थक
पिता बिना सूना संसार
वह हैं जीवन के आधार
पिता से ही हमारी शान
क्यों न बढ़ायें उनका मान
पिता पिता गुंजारे व्योम
हर्षित हृदय अकिंचन ओम

ओम प्रकाश भारती ओम्
बालाघाट , मध्य प्रदेश

Language: Hindi
63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओमप्रकाश भारती *ओम्*
View all
You may also like:
देश भक्त का अंतिम दिन
देश भक्त का अंतिम दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
23/156.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/156.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कमली हुई तेरे प्यार की
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
गमले में पेंड़
गमले में पेंड़
Mohan Pandey
ज़हर क्यों पी लिया
ज़हर क्यों पी लिया
Surinder blackpen
खोज सत्य की जारी है
खोज सत्य की जारी है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
We become more honest and vocal when we are physically tired
We become more honest and vocal when we are physically tired
पूर्वार्थ
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
Ashish shukla
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
Neelam Sharma
धरती का बुखार
धरती का बुखार
Anil Kumar Mishra
मेरे फितरत में ही नहीं है
मेरे फितरत में ही नहीं है
नेताम आर सी
😊गज़ब के लोग😊
😊गज़ब के लोग😊
*प्रणय प्रभात*
शीर्षक – फूलों सा महकना
शीर्षक – फूलों सा महकना
Sonam Puneet Dubey
God is Almighty
God is Almighty
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* संसार में *
* संसार में *
surenderpal vaidya
रक्त के परिसंचरण में ॐ ॐ ओंकार होना चाहिए।
रक्त के परिसंचरण में ॐ ॐ ओंकार होना चाहिए।
Rj Anand Prajapati
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
लक्ष्मी सिंह
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
gurudeenverma198
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Dr Parveen Thakur
"फूल बिखेरता हुआ"
Dr. Kishan tandon kranti
कुण्डलिया छंद
कुण्डलिया छंद
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जिस दिन कविता से लोगों के,
जिस दिन कविता से लोगों के,
जगदीश शर्मा सहज
तेरा मेरा.....एक मोह
तेरा मेरा.....एक मोह
Neeraj Agarwal
फितरत की बातें
फितरत की बातें
Mahendra Narayan
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
शेखर सिंह
Loading...