Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

पढ़ो लिखो आगे बढ़ो…

पढ़ो लिखो आगे बढ़ो…

पढ़ो लिखो आगे बढ़ो।
सोपान प्रगति के चढ़ो।
कमजोरियों के अपनी,
दोष न औरों पर मढ़ो।

घुस रीढ़ में समाज की,
डस रहीं जो कुरीतियाँ।
उन्हें मिटाने को तुम्हीं,
बनो महा विभूतियाँ।

हितकर हों सबके लिए,
नियम सदा ऐसे गढ़ो।

बद आसुरी प्रवृत्तियाँ,
नित तुम्हें भरमाएँगी।
स्वार्थ-लोभ-मद की गलत,
लत तुम्हें लगवाएँगी।

असत्य कुमार्ग पर चले,
पाठ नित्य सत् के पढ़ो।

पढ़ो लिखो आगे बढ़ो।
सोपान प्रगति के चढ़ो।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र.)

Language: Hindi
1 Like · 35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
आपन गांव
आपन गांव
अनिल "आदर्श"
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Seema Varma
मनमीत
मनमीत
लक्ष्मी सिंह
अपनों की महफिल
अपनों की महफिल
Ritu Asooja
"ऐ मेरे बचपन तू सुन"
Dr. Kishan tandon kranti
2321.पूर्णिका
2321.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
Pushpraj Anant
क्यों तुम उदास होती हो...
क्यों तुम उदास होती हो...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
Shyam Sundar Subramanian
बात सीधी थी
बात सीधी थी
Dheerja Sharma
इस कदर भीगा हुआ हूँ
इस कदर भीगा हुआ हूँ
Dr. Rajeev Jain
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
Neeraj Agarwal
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
😢आज का शेर😢
😢आज का शेर😢
*प्रणय प्रभात*
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
एकतरफा प्यार
एकतरफा प्यार
Shekhar Chandra Mitra
मेरे पास नींद का फूल🌺,
मेरे पास नींद का फूल🌺,
Jitendra kumar
भूल कर
भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
गले लगा लेना
गले लगा लेना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
गंगा ....
गंगा ....
sushil sarna
मेरी अना को मेरी खुद्दारी कहो या ज़िम्मेदारी,
मेरी अना को मेरी खुद्दारी कहो या ज़िम्मेदारी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
Just in case no one has told you this today, I’m so proud of
Just in case no one has told you this today, I’m so proud of
पूर्वार्थ
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त  - शंका
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त - शंका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
***
*** " मन मेरा क्यों उदास है....? " ***
VEDANTA PATEL
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
Loading...