Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

उड़ चल पंछी

उड़ चल पंछी तू अब उड़ चल।
दे रहा चुनौती नील गगन,
टकराने दे तू आज पवन।
अपने डैनों का ले संबल,
कर देना नभ में तू हल चल।
उड़ चल पंछी तू अब उड़ चल।
ऑंधी की तू परवाह न कर,
तू तूफान से ले टक्कर।
देखे तुझको संसार सकल,
मचा दे तू आज उथल-पुथल।
उड़ चल पंछी तू अब उड़ चल।
मथना है यह आकाश तुझे,
लाना है वो प्रकाश तुझे।
ज्योतिर्मय होकर निर्मल,
तेज प्रखर फैलाना निश्छल।
उड़ चल पंछी तू अब उड़ चल।
लेकर चोंच में तुझे तिनका,
रचना एक नीड़ भी अपना।
रहे नहीं यहाँ कोई विकल,
हो आश्रयहीन और निर्बल।
उड़ चल पंछी तू अब उड़ चल।
सृष्टि है तू ही सृष्टा भी है,
दृष्टि है तू ही दृष्टा भी है।
जगा सबमें उत्साह नवल,
बन जा तू ही प्रेरणा प्रबल।
उड़ चल पंछी तू अब उड़ चल।
मौत भी गर आ तुझसे मिले,
रोए वो लगाकर तुझको गले।
दुनिया में कुछ ऐसा कर चल,
सबके सपने सच करता चल।
उड़ चल पंछी तू अब उड़ चल।

—प्रतिभा आर्य
चेतन एनक्लेव,
अलवर(राजस्थान)

Language: Hindi
4 Likes · 2 Comments · 342 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
View all
You may also like:
मुस्कुराना सीख लिया !|
मुस्कुराना सीख लिया !|
पूर्वार्थ
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
"ग्लैमर"
Dr. Kishan tandon kranti
गीत गाने आयेंगे
गीत गाने आयेंगे
Er. Sanjay Shrivastava
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*मन  में  पर्वत  सी पीर है*
*मन में पर्वत सी पीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पिछले पन्ने 6
पिछले पन्ने 6
Paras Nath Jha
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
Arghyadeep Chakraborty
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
Sukoon
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
राम लला
राम लला
Satyaveer vaishnav
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Akshay patel
याद रहेगा यह दौर मुझको
याद रहेगा यह दौर मुझको
Ranjeet kumar patre
दोहे- साँप
दोहे- साँप
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*चंद्रयान ने छू लिया, दक्षिण ध्रुव में चॉंद*
*चंद्रयान ने छू लिया, दक्षिण ध्रुव में चॉंद*
Ravi Prakash
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
SHAMA PARVEEN
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
24/230. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/230. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
Dr Parveen Thakur
आ गए चुनाव
आ गए चुनाव
Sandeep Pande
तेरी तंकीद अच्छी लगती है
तेरी तंकीद अच्छी लगती है
Dr fauzia Naseem shad
#DrArunKumarshastri
#DrArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मजे की बात है ....
मजे की बात है ....
Rohit yadav
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
आज हम याद करते
आज हम याद करते
अनिल अहिरवार
#आंखों_की_भाषा
#आंखों_की_भाषा
*Author प्रणय प्रभात*
जब -जब धड़कन को मिली,
जब -जब धड़कन को मिली,
sushil sarna
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
संबंधो में अपनापन हो
संबंधो में अपनापन हो
संजय कुमार संजू
Loading...