Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2018 · 1 min read

नूतन सद्आचार मिल गया

नूतन सद् आचार मिल गया
अपनापन सद्भाव प्रेम सह विज्ञ सुजन व्योहार मिल गया

गाँव-संस्कृति में कुरीतियाँ, धर्मांधता, अशिक्षा -साया।
शहर-संस्कृति में विकास सह बोधी मन की चेतन माया।
नो सेना के अमल अफसरों में स्वराष्ट्र सद्भाव मिल गया ।
नूतन सद् आचार मिल गया

संस्कृतियों के गुणों का मिलन, सद्विकास का उच्चरूप है ।
अपनी आत्मा का विकास कर,सद्ज्ञानी जीवन अनूप है।
गुण के चंदन की खुशबू, जो महका दे,वह प्यार मिल गया
नूतन सद् आचार मिल गया

मिटें भ्रांतियाँ यदि ग्रामों कीं, जीवन तम से नहीं छलेगा
जातिवाद-**धर्मांध-रूढियों की रजनी में दीप जलेगा
विश्व कहेगा भारत को बंधुत्व -सुबोध- उभार मिल गया
नूतन सद् आचार मिल गया
………………..
पं बृजेश कुमार नायक

**धर्मांध=धर्म के विषय में बहुत ही अविवेकी तथा कट्टर

यह रचना मैंने दिनांक-07-11-2018 को नोफरा मुम्बई में इंडियन नेवी के अधिकारियों की आवासीय व्यवस्था ,वातावरण एवं मेरे ज्येष्ठ पुत्र के आवास पर आने वाले अधिकारियों के व्यवहार से प्रभावित होकर, दिनांक -07-11-2018 को मुम्बई में लिखी थी |मैने 2018 की दीपावली मुम्बई में बच्चों के साथ मनाई |
………………
पं बृजेश कुमार नायक

Language: Hindi
3 Likes · 5 Comments · 721 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
DrLakshman Jha Parimal
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
Dr. Harvinder Singh Bakshi
2518.पूर्णिका
2518.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
घायल तुझे नींद आये न आये
घायल तुझे नींद आये न आये
Ravi Ghayal
If you do things the same way you've always done them, you'l
If you do things the same way you've always done them, you'l
Vipin Singh
जीवनदायिनी बैनगंगा
जीवनदायिनी बैनगंगा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बचपन
बचपन
नूरफातिमा खातून नूरी
उनको असफलता अधिक हाथ लगती है जो सफलता प्राप्त करने के लिए सह
उनको असफलता अधिक हाथ लगती है जो सफलता प्राप्त करने के लिए सह
Rj Anand Prajapati
हे नाथ आपकी परम कृपा से, उत्तम योनि पाई है।
हे नाथ आपकी परम कृपा से, उत्तम योनि पाई है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
👍
👍
*प्रणय प्रभात*
खुशियाँ
खुशियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
दुःख,दिक्कतें औ दर्द  है अपनी कहानी में,
दुःख,दिक्कतें औ दर्द है अपनी कहानी में,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Miss you Abbu,,,,,,
Miss you Abbu,,,,,,
Neelofar Khan
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
???????
???????
शेखर सिंह
क्यों नहीं निभाई तुमने, मुझसे वफायें
क्यों नहीं निभाई तुमने, मुझसे वफायें
gurudeenverma198
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
कवि रमेशराज
खींचो यश की लम्बी रेख।
खींचो यश की लम्बी रेख।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पुराना कुछ भूलने के लिए,
पुराना कुछ भूलने के लिए,
पूर्वार्थ
विश्वास
विश्वास
Bodhisatva kastooriya
"गुलामगिरी"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
Phool gufran
साँप का जहर
साँप का जहर
मनोज कर्ण
औरत
औरत
Shweta Soni
पढ़ने को आतुर है,
पढ़ने को आतुर है,
Mahender Singh
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
Dr. Man Mohan Krishna
कान्हा प्रीति बँध चली,
कान्हा प्रीति बँध चली,
Neelam Sharma
Loading...