Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

नूतन वर्ष

***जो बीत गया , उसे जाने दो,
अभिनव संकल्प उपजने दो।
नित नए लक्ष्य हों, नए हौसले,
नवल सृजन और नए फैसले ।।
खुशहाली का मधुमय चिंतन
*** नव वर्ष तुम्हारा अभिनंदन !!

भावी जीवन की अभिलाषाएं,
उत्कंठित हैं, छा जाने को ।
जीवन निर्झर की कल-कल से ,
एक गीत मधुर रच जाने दो।.
भावों का हो रोली –चंदन,
*** नव वर्ष तुम्हारा अभिनंदन !!

Language: Hindi
176 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Madhavi Srivastava
View all
You may also like:
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*आस टूट गयी और दिल बिखर गया*
*आस टूट गयी और दिल बिखर गया*
sudhir kumar
व्यक्ति को ह्रदय का अच्छा होना जरूरी है
व्यक्ति को ह्रदय का अच्छा होना जरूरी है
शेखर सिंह
स्त्री
स्त्री
Dinesh Kumar Gangwar
सुंदरता विचारों व चरित्र में होनी चाहिए,
सुंदरता विचारों व चरित्र में होनी चाहिए,
Ranjeet kumar patre
पुनर्वास
पुनर्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आफत की बारिश
आफत की बारिश
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कविता
कविता
Shiva Awasthi
"फ़िर से आज तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
मनमुटाव अच्छा नहीं,
मनमुटाव अच्छा नहीं,
sushil sarna
*Awakening of dreams*
*Awakening of dreams*
Poonam Matia
गलती अगर किए नहीं,
गलती अगर किए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
कवि दीपक बवेजा
#दोहा...
#दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
ना जाने क्यों तुम,
ना जाने क्यों तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
Kshma Urmila
मुझको मालूम है तुमको क्यों है मुझसे मोहब्बत
मुझको मालूम है तुमको क्यों है मुझसे मोहब्बत
gurudeenverma198
मां गोदी का आसन स्वर्ग सिंहासन💺
मां गोदी का आसन स्वर्ग सिंहासन💺
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
रूठी हूं तुझसे
रूठी हूं तुझसे
Surinder blackpen
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
पूर्वार्थ
कविता क़िरदार है
कविता क़िरदार है
Satish Srijan
"बीज"
Dr. Kishan tandon kranti
दो जिस्म एक जान
दो जिस्म एक जान
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*राम तुम्हारे शुभागमन से, चारों ओर वसंत है (गीत)*
*राम तुम्हारे शुभागमन से, चारों ओर वसंत है (गीत)*
Ravi Prakash
3471🌷 *पूर्णिका* 🌷
3471🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
Pramila sultan
Loading...