Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2024 · 1 min read

नुकसान हो या मुनाफा हो

नुकसान हो या मुनाफा हो
जो तुम खफा हो तो दफा हो….
-मनोज

29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अहमियत
अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
जमाने से सुनते आये
जमाने से सुनते आये
ruby kumari
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
हरवंश हृदय
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
Rashmi Ranjan
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चेहरा सब कुछ बयां नहीं कर पाता है,
चेहरा सब कुछ बयां नहीं कर पाता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मतदान
मतदान
Dr Archana Gupta
साँसें कागज की नाँव पर,
साँसें कागज की नाँव पर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
होके रुकसत कहा जाओगे
होके रुकसत कहा जाओगे
Awneesh kumar
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*कभी कभी यह भी होता है, साँस न वापस आती (गीत )*
*कभी कभी यह भी होता है, साँस न वापस आती (गीत )*
Ravi Prakash
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं...!!!!
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं...!!!!
Jyoti Khari
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
*प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Naushaba Suriya
छल ......
छल ......
sushil sarna
पिया मिलन की आस
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
मम्मास बेबी
मम्मास बेबी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राम अवध के
राम अवध के
Sanjay ' शून्य'
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
Satyaveer vaishnav
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
Anand Kumar
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
Namrata Sona
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अक्षर ज्ञानी ही, कट्टर बनता है।
अक्षर ज्ञानी ही, कट्टर बनता है।
नेताम आर सी
"एक ख्वाब टुटा था"
Lohit Tamta
रोटी
रोटी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुत्ते
कुत्ते
Dr MusafiR BaithA
ज़िंदगी इतनी मुश्किल भी नहीं
ज़िंदगी इतनी मुश्किल भी नहीं
Dheerja Sharma
एहसासों से भरे पल
एहसासों से भरे पल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...