Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2023 · 1 min read

नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।

नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं,
आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
दंश उन्होंने हीं दिए, जिन्होंने अपनेपन के छल रचाये हैं,
वरना औरों के समक्ष, हम आज भी कहाँ खुल पाए हैं।
मरहम का भ्रम फैलाकर, रीसते जख्मों पर नमक रगड़ आये हैं,
प्रपंच रचा गया भय का ऐसा, जिससे शब्द हमारे थर्राये हैं।
सपनों के मीठे गीत कभी, मधुबन में हमने भी गाये हैं,
पर चीख़ें लिखी गयीं, श्वासों पर ऐसी, जिसे आज भी भूल ना पाए हैं।
प्रकाशपुंज की दीप्ती से नहीं, अन्धकार से हम टकराये हैं,
शीतल जल की धारा से नहीं, विषमिश्रित जलप्रपात से प्यास बुझाये हैं।
स्तब्ध रह गयी आस्थाएं, तब खुद को हीं कठघरे में खड़ा कर आये हैं,
धर्मक्षेत्र सजाया और स्वयं से स्वयं को जीत कर लाये हैं।
अग्नि सी है अब ढाल मेरी, जिससे अधर्मियों के धर्म चरमराए हैं,
अंतरिक्ष भी मुस्कुरा उठा, जब शस्त्र सम्मान ने स्वयं के लिए उठाये हैं।

219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
ये इश्क़-विश्क़ के फेरे-
ये इश्क़-विश्क़ के फेरे-
Shreedhar
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दान
दान
Mamta Rani
एक सत्य
एक सत्य
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
Manoj Mahato
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
*दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए (गीत )*
*दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए (गीत )*
Ravi Prakash
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अर्ज किया है जनाब
अर्ज किया है जनाब
शेखर सिंह
"गहरा रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
वो पढ़ लेगा मुझको
वो पढ़ लेगा मुझको
Dr fauzia Naseem shad
जब -जब धड़कन को मिली,
जब -जब धड़कन को मिली,
sushil sarna
2942.*पूर्णिका*
2942.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
#दोषी_संरक्षक
#दोषी_संरक्षक
*Author प्रणय प्रभात*
Gulab ke hasin khab bunne wali
Gulab ke hasin khab bunne wali
Sakshi Tripathi
कॉटेज हाउस
कॉटेज हाउस
Otteri Selvakumar
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
वार्तालाप
वार्तालाप
Shyam Sundar Subramanian
सुरक्षित भविष्य
सुरक्षित भविष्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
One day you will realized that happiness was never about fin
One day you will realized that happiness was never about fin
पूर्वार्थ
वह मुझे चाहता बहुत तो था
वह मुझे चाहता बहुत तो था
Shweta Soni
हां मैं इक तरफ खड़ा हूं, दिल में कोई कश्मकश नहीं है।
हां मैं इक तरफ खड़ा हूं, दिल में कोई कश्मकश नहीं है।
Sanjay ' शून्य'
खाने को पैसे नहीं,
खाने को पैसे नहीं,
Kanchan Khanna
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
VINOD CHAUHAN
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक खूबसूरत पिंजरे जैसा था ,
एक खूबसूरत पिंजरे जैसा था ,
लक्ष्मी सिंह
अनमोल
अनमोल
Neeraj Agarwal
स्वागत है नवजात भतीजे
स्वागत है नवजात भतीजे
Pooja srijan
" ये धरती है अपनी...
VEDANTA PATEL
Loading...