Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

नींद

साँझ ढलते ही पलकों की दहलीज पर,
आ जाती है नींद।

संग अपने ख्वाब सुहाने अनगिनत,
ले आती है नींद।

हो जाता है अपना जब दूर कोई हमसे,
रूठकर पलकों से फिर दूर,
चली जाती है नींद।

दिन भर की बेचैनी और थकन के बाद,
अपनी ममता भरी छाँव में हमें,
ले जाती है नींद।

होता है जब कभी मन उदास और निराश,
दूर रहकर आँखों से फिर कितना,
सताती है नींद।

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत) ।
वर्ष :- २०१३.

Language: Hindi
2 Comments · 89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
gurudeenverma198
ज्ञानों का महा संगम
ज्ञानों का महा संगम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"मनुष्यता से.."
Dr. Kishan tandon kranti
भगवान भले ही मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, और चर्च में न मिलें
भगवान भले ही मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, और चर्च में न मिलें
Sonam Puneet Dubey
दबे पाँव
दबे पाँव
Davina Amar Thakral
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
manjula chauhan
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
bhandari lokesh
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
Ajad Mandori
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
कवि दीपक बवेजा
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
*
*"राम नाम रूपी नवरत्न माला स्तुति"
Shashi kala vyas
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
होने को अब जीवन की है शाम।
होने को अब जीवन की है शाम।
Anil Mishra Prahari
प्यासा के कुंडलियां (pyasa ke kundalian) pyasa
प्यासा के कुंडलियां (pyasa ke kundalian) pyasa
Vijay kumar Pandey
मैं बनारस का बेटा हूँ मैं गुजरात का बेटा हूँ मैं गंगा का बेट
मैं बनारस का बेटा हूँ मैं गुजरात का बेटा हूँ मैं गंगा का बेट
शेखर सिंह
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आ अब लौट चलें.....!
आ अब लौट चलें.....!
VEDANTA PATEL
संकल्प का अभाव
संकल्प का अभाव
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
यूं ही कोई लेखक नहीं बन जाता।
यूं ही कोई लेखक नहीं बन जाता।
Sunil Maheshwari
■ लीजिए संकल्प...
■ लीजिए संकल्प...
*प्रणय प्रभात*
गीत
गीत
Shiva Awasthi
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
Deepesh purohit
बचपन का मौसम
बचपन का मौसम
Meera Thakur
व्यस्तता
व्यस्तता
Surya Barman
‘प्रकृति से सीख’
‘प्रकृति से सीख’
Vivek Mishra
बचपन
बचपन
Vedha Singh
शब-ए-सुखन भी ज़रूरी है,
शब-ए-सुखन भी ज़रूरी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ऐसा कहा जाता है कि
ऐसा कहा जाता है कि
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
3053.*पूर्णिका*
3053.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...