Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

नींद कि नजर

खामोश जिंदगी ए पैगाम दे रही है
मोहब्बत के रूठने का पैगाम दे रही है।।

तन्हा जिंदगी के उम्मीदों के समन्दर में
अंदाज़ जिंदगी का अरमान दे रही है।।

खामोश जिंदगी ए पैगाम दे रही है
मोहब्बत के रूठने का पैगाम दे रही है।।

गम औऱ खुशी के अश्कों जज्बों हसरतों में
उम्मीद जिंदगी का इज़हार
दे रही है ।।

खामोश जिंदगी ए पैगाम दे रही है
मोहब्बत के रूठने का पैगाम दे रही है।।

जिंदगी के रास्तों में ख्वाबों हकीकतों में
दोस्तो कि चाहतों में वीरान जिंदगी का
कारवां बता रही है।।

खामोश जिंदगी ए पैगाम दे रही है
मोहब्बत के रूठने का पैगाम दे रही है।।

रिश्तो के इस जहां में मोहब्बत गुनाह
गुनाह है नफरतों के दौर में वो खोया बता रही है।।

खामोश जिंदगी ए पैगाम दे रही है
मोहब्बत के रूठने का पैगाम दे रही है।।

Language: Hindi
40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
surenderpal vaidya
⚘️महाशिवरात्रि मेरे लेख🌿
⚘️महाशिवरात्रि मेरे लेख🌿
Ms.Ankit Halke jha
At the end of the day, you have two choices in love – one is
At the end of the day, you have two choices in love – one is
पूर्वार्थ
बाखुदा ये जो अदाकारी है
बाखुदा ये जो अदाकारी है
Shweta Soni
“मैं सब कुछ सुनकर भी
“मैं सब कुछ सुनकर भी
दुष्यन्त 'बाबा'
*ठहाका मारकर हँसने-हँसाने की जरूरत है【मुक्तक】*
*ठहाका मारकर हँसने-हँसाने की जरूरत है【मुक्तक】*
Ravi Prakash
नारी वेदना के स्वर
नारी वेदना के स्वर
Shyam Sundar Subramanian
हे मृत्यु तैयार यदि तू आने को प्रसन्न मुख आ द्वार खुला है,
हे मृत्यु तैयार यदि तू आने को प्रसन्न मुख आ द्वार खुला है,
Vishal babu (vishu)
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
मछली कब पीती है पानी,
मछली कब पीती है पानी,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तोल मोल के बोलो वचन ,
तोल मोल के बोलो वचन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
तेरी सख़्तियों के पीछे
तेरी सख़्तियों के पीछे
ruby kumari
मायापति की माया!
मायापति की माया!
Sanjay ' शून्य'
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
शाबाश चंद्रयान-३
शाबाश चंद्रयान-३
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
Surinder blackpen
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
इस नदी की जवानी गिरवी है
इस नदी की जवानी गिरवी है
Sandeep Thakur
आपात स्थिति में रक्तदान के लिए आमंत्रण देने हेतु सोशल मीडिया
आपात स्थिति में रक्तदान के लिए आमंत्रण देने हेतु सोशल मीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
"सफलता की चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
बैठ गए
बैठ गए
विजय कुमार नामदेव
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
shabina. Naaz
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
माँ मेरी परिकल्पना
माँ मेरी परिकल्पना
Dr Manju Saini
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
gurudeenverma198
बेमेल कथन, फिजूल बात
बेमेल कथन, फिजूल बात
Dr MusafiR BaithA
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
दिल तोड़ना ,
दिल तोड़ना ,
Buddha Prakash
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...