Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-114💐

ना-उम्मीद से लगे,बहुत उम्मीद से लगे,
मेरे दिल में लगे उफ़! पैने तीर से लगे।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
47 Views
You may also like:
खंड: 1
खंड: 1
Rambali Mishra
जीवन रंगों से रंगा रहे
जीवन रंगों से रंगा रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहुत दिनों से सोचा था, जाएंगे पुस्तक मेले में।
बहुत दिनों से सोचा था, जाएंगे पुस्तक मेले में।
सत्य कुमार प्रेमी
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
शायद हम ज़िन्दगी के
शायद हम ज़िन्दगी के
Dr fauzia Naseem shad
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
💐अज्ञात के प्रति-121💐
💐अज्ञात के प्रति-121💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सार छंद / छन्न पकैया गीत
सार छंद / छन्न पकैया गीत
Subhash Singhai
लोकतंत्र में शक्ति
लोकतंत्र में शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरी चाहत
मेरी चाहत
umesh mehra
غزل
غزل
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
राम बनो!
राम बनो!
Suraj kushwaha
*दे दो पेंशन सरकार*
*दे दो पेंशन सरकार*
मानक लाल"मनु"
"रंग वही लगाओ रे"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने और पराए
अपने और पराए
Sushil chauhan
खोकर अपनों को यह जाना।
खोकर अपनों को यह जाना।
लक्ष्मी सिंह
Ready for argument
Ready for argument
AJAY AMITABH SUMAN
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
Er.Navaneet R Shandily
“जिंदगी अधूरी है जब हॉबबिओं से दूरी है”
“जिंदगी अधूरी है जब हॉबबिओं से दूरी है”
DrLakshman Jha Parimal
दोहे एकादश ...
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे
हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे
Anand Sharma
नियति
नियति
Shyam Sundar Subramanian
"अपेक्षा का ऊंचा पहाड़
*Author प्रणय प्रभात*
दिल  धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
दिल धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
नारी उर को
नारी उर को
Satish Srijan
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
भूल जाना आसान नहीं
भूल जाना आसान नहीं
Surinder blackpen
सबके हाथ में तराजू है ।
सबके हाथ में तराजू है ।
Ashwini sharma
Loading...