Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

नारी

अंशुमाली की प्रदीप्त
रश्मि-सी,
तुषार की धवल
टोप-सी,
सुधांशु की सौम्य
कौमुदी-सी,
सरिता की विशद
तरंगिणी-सी,
प्रदीप की सुजागर
दीपशिखा-सी
भोर की सुरभित
मारुत-सी,
नारी।
गृहस्थ,
खेतिहर,
कामकाजी,
उद्यमी,
संयमी,
गृहलक्ष्मी,
जन्मदात्री,
संग की साथी
नारी।
सुकोमल है,
समाधित है,
ममतामयी है,
करूणामयी है,
अनुरागिनी है,
परोपकारी है।
स्व-ईप्सा की
कामना,
जाग्रत होते ही
कुटुंब-वांछा की
धौंकनी में
स्वाहा करती आई है,
सहर्ष,
निस्स्वार्थ,
काम्या
युग-युगांतर से
एकलव्य-सी।

Language: Hindi
46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"कोशिशो के भी सपने होते हैं"
Ekta chitrangini
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
शेखर सिंह
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
सुनो सखी !
सुनो सखी !
Manju sagar
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
Shashi kala vyas
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
Ravi Prakash
दुःख हरणी
दुःख हरणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दोदोस्ती,प्यार और धोखा का संबंध
दोदोस्ती,प्यार और धोखा का संबंध
रुपेश कुमार
3093.*पूर्णिका*
3093.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
गुप्तरत्न
- मर चुकी इंसानियत -
- मर चुकी इंसानियत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
चलते रहना ही जीवन है।
चलते रहना ही जीवन है।
संजय कुमार संजू
अपनी मनमानियां _ कब तक करोगे ।
अपनी मनमानियां _ कब तक करोगे ।
Rajesh vyas
थैला
थैला
Satish Srijan
"चरित्र-दर्शन"
Dr. Kishan tandon kranti
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जे जाड़े की रातें (बुंदेली गीत)
जे जाड़े की रातें (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
Neelam Sharma
"मेरे किसान बंधु चौकड़िया'
Ms.Ankit Halke jha
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
Harminder Kaur
इतनी ज़ुबाॅ को
इतनी ज़ुबाॅ को
Dr fauzia Naseem shad
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
और तुम कहते हो मुझसे
और तुम कहते हो मुझसे
gurudeenverma198
अफसोस-कविता
अफसोस-कविता
Shyam Pandey
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
Keshav kishor Kumar
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
Loading...