Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

नारी

पूजा हूं, अर्चना हूं
मैं इस जग की भवानी हूं

नारी हूं, उजियारी हूं
मैं पावन नित बहती गंगा हूं

ऊषा हूं, धरा हूं
मैं वट की शीतल छाया हूं

कविता हूं, कहानी हूं
मैं आदिशाक्ति जगदंबा हूं

काली हूं, दुर्गा हूं
मैं रणभूमि की महाकाली हूं

देवी हूं, नायिका हूं
मैं हर महाकाव्य की गाथा हूं

गीता हूं, मीरा हूं
मैं अनुसुइया मरियम सीता हूं

स्त्री हूं, संगिनी हूं
मैं कृष्ण दीवानी राधा हूं

शबरी हूं, अहिल्या हूं
मैं प्रभु श्रीराम की पूजारन हूं

जननी हूं, अन्नपूर्णा हूं
मैं ईश्वर की निर्मित शक्ति हूं

माता हूं, बेटी हूं
मैं सम्मान की अधिकारी हूं।

– सुमन मीना (अदिति)

1 Like · 134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नारी को सदा राखिए संग
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
मैं अपना सबकुछ खोकर,
मैं अपना सबकुछ खोकर,
लक्ष्मी सिंह
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कुछ लिखूँ.....!!!
कुछ लिखूँ.....!!!
Kanchan Khanna
जनता का भरोसा
जनता का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
3090.*पूर्णिका*
3090.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो भी पाना है उसको खोना है
जो भी पाना है उसको खोना है
Shweta Soni
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
माफ करना मैडम हमें,
माफ करना मैडम हमें,
Dr. Man Mohan Krishna
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
Arghyadeep Chakraborty
डूबें अक्सर जो करें,
डूबें अक्सर जो करें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन संघर्ष
जीवन संघर्ष
Omee Bhargava
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
सिसकियाँ
सिसकियाँ
Dr. Kishan tandon kranti
प्रस्फुटन
प्रस्फुटन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नाम सुनाता
नाम सुनाता
Nitu Sah
कभी कभी कुछ प्रश्न भी, करते रहे कमाल।
कभी कभी कुछ प्रश्न भी, करते रहे कमाल।
Suryakant Dwivedi
हो रही बरसात झमाझम....
हो रही बरसात झमाझम....
डॉ. दीपक मेवाती
तृष्णा के अम्बर यहाँ,
तृष्णा के अम्बर यहाँ,
sushil sarna
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
Smriti Singh
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
राष्ट्र सेवा के मौनव्रती श्री सुरेश राम भाई
राष्ट्र सेवा के मौनव्रती श्री सुरेश राम भाई
Ravi Prakash
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
नूरफातिमा खातून नूरी
परखा बहुत गया मुझको
परखा बहुत गया मुझको
शेखर सिंह
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
Happy sunshine Soni
"कुछ अनकही"
Ekta chitrangini
कैसे भूले हिंदुस्तान ?
कैसे भूले हिंदुस्तान ?
Mukta Rashmi
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
Mamta Singh Devaa
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
Loading...