Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 1 min read

नारी

नारी तुम मा,पत्नी और बहना हो!
नारी तुम घर-ऑगन का गहना हो!!

तुम गायत्री,सरस्वती और लछ्मी हो!
तुम कर्मभूमि का चंदन और भस्मी हो!!
तुम सैदुर ऑचल और कगना हो!
नारी तुम मा,पत्नी और बहना हो!!

नारी तुम तो मर्दो की जननी हो!
कभी उसकी अर्धागिनी सजनी हो!!
चूडी-पायल की रुनझुन बजना हो!
नारी तुम मा,पत्नी और बहना हो!!

तुम ही तो उसका स्वप्न सलोना हो!
फिर भी उसके हाथ खिलौना हो!!
क्यूं कन्या नही बालक ही जनना हो!
नारी तुम मा,पत्नी और बहना हो!!

मर्दो ने विश्वास जीत हरबार ठगा है!
करवाता भ्रम यही वो ही तेरा सगा है!!
उसके भँवर जाल से तुझको बचना हो!
नारी तुम मा,पत्नी और बहना हो!!

तुम मर्दो की भोग्या और सेवी हो!
फिर भी कहलाती उसकी देवी हो!!
कब टूटेगा भ्रम,कहता जब ठगना हो!
नारी तुम मा,पत्नी और बहना हो!!

Language: Hindi
4 Likes · 10 Comments · 407 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
आधुनिक हिन्दुस्तान
आधुनिक हिन्दुस्तान
SURYA PRAKASH SHARMA
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
रक्तदान
रक्तदान
Neeraj Agarwal
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ इलाज बस एक ही...
■ इलाज बस एक ही...
*Author प्रणय प्रभात*
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
goutam shaw
नव वर्ष
नव वर्ष
RAKESH RAKESH
जय जय जगदम्बे
जय जय जगदम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सरसी छंद और विधाएं
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
नव वर्ष (गीत)
नव वर्ष (गीत)
Ravi Prakash
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
Shashi Dhar Kumar
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
सभी नेतागण आज कल ,
सभी नेतागण आज कल ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
इंसान एक खिलौने से ज्यादा कुछ भी नहीं,
इंसान एक खिलौने से ज्यादा कुछ भी नहीं,
शेखर सिंह
आ लौट के आजा टंट्या भील
आ लौट के आजा टंट्या भील
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"परमात्मा"
Dr. Kishan tandon kranti
*चाँद कुछ कहना है आज * ( 17 of 25 )
*चाँद कुछ कहना है आज * ( 17 of 25 )
Kshma Urmila
माफ करना, कुछ मत कहना
माफ करना, कुछ मत कहना
gurudeenverma198
उसकी एक नजर
उसकी एक नजर
साहिल
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
3205.*पूर्णिका*
3205.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
कृष्णकांत गुर्जर
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
मैं कौन हूँ कैसा हूँ तहकीकात ना कर
मैं कौन हूँ कैसा हूँ तहकीकात ना कर
VINOD CHAUHAN
दिकपाल छंदा धारित गीत
दिकपाल छंदा धारित गीत
Sushila joshi
Loading...