Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*

नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)
——————————
नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार
तुममें बसता अर्थ है ,बसा धर्म का सार
बसा धर्म का सार, नदी-सी निर्मल धारा
तुम प्राचीन-नवीन, सूर्य मुट्ठी में सारा
कहते रवि कविराय ,लोक की जिम्मेदारी
जग का लेकर भार, दृढ़वती दिखती नारी
——————————–
रचयिता : रवि प्रकाश , बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 420 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
एक अरसा हो गया गाँव गये हुए, बचपन मे कभी कभी ही जाने का मौका
एक अरसा हो गया गाँव गये हुए, बचपन मे कभी कभी ही जाने का मौका
पूर्वार्थ
मै अकेला न था राह था साथ मे
मै अकेला न था राह था साथ मे
Vindhya Prakash Mishra
"ये दृश्य बदल जाएगा.."
MSW Sunil SainiCENA
सनम
सनम
Sanjay ' शून्य'
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Love and truth never hide...
Love and truth never hide...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पतग की परिणीति
पतग की परिणीति
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sakshi Tripathi
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
प्रभु हैं खेवैया
प्रभु हैं खेवैया
Dr. Upasana Pandey
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बगुले तटिनी तीर से,
बगुले तटिनी तीर से,
sushil sarna
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
गीत
गीत
दुष्यन्त 'बाबा'
किसी के दर्द
किसी के दर्द
Dr fauzia Naseem shad
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
Buddha Prakash
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
Vedha Singh
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
"सोचिए"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िन्दगी की राह
ज़िन्दगी की राह
Sidhartha Mishra
2326.पूर्णिका
2326.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*पर्वत से दृढ़ तुम पिता, वंदन है शत बार (कुंडलिया)*
*पर्वत से दृढ़ तुम पिता, वंदन है शत बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हाय हाय रे कमीशन
हाय हाय रे कमीशन
gurudeenverma198
संघर्ष
संघर्ष
Shyam Sundar Subramanian
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
SPK Sachin Lodhi
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
प्यार किया हो जिसने, पाने की चाह वह नहीं रखते।
प्यार किया हो जिसने, पाने की चाह वह नहीं रखते।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
जीवन सभी का मस्त है
जीवन सभी का मस्त है
Neeraj Agarwal
Loading...